Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2023 · 1 min read

बिन मौसम बरसात

बिन मौसम बरसात ने ,लिया कृषक की जान।
भींग गई सारी फसल,हुआ बहुत नुकसान।।

आफत बन कर आ गई, बिन मौसम बरसात।
उस पर ओले की कहर,फसलों पर आघात।।

बरस रहा जल चैत्र में,सावन की बौछार।
खेत बना है पोखरा,किया फसल बेकार।।

फसल रखी थी काट कर,हाय हुआ बर्बाद।
फूट-फूट रोया कृषक,भरा हृदय अवसाद।।

गेंहू सरसों बाजरा,सारी फसल तबाह।
फसल देख तड़पे कृषक,निकले मुख से आह।।

देख फसल की दुर्दशा,मन व्याकुल बेचैन।
देव-देव करता कृषक, करुण हृदय नम नैन।।

टूटी माला की तरह, फूटी किस्मत हाय।
मेहनत पर पानी फिरा,अब क्या करें उपाय।।
-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

1 Like · 292 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
मन वैरागी हो गया
मन वैरागी हो गया
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
LOVE-LORN !
LOVE-LORN !
Ahtesham Ahmad
__सुविचार__
__सुविचार__
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
मुस्कान
मुस्कान
Neeraj Agarwal
"पुकारता है चले आओ"
Dr. Kishan tandon kranti
यादों को याद करें कितना ?
यादों को याद करें कितना ?
The_dk_poetry
माँ की छाया
माँ की छाया
Arti Bhadauria
2366.पूर्णिका
2366.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
वेलेंटाइन डे
वेलेंटाइन डे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हमारी मोहब्बत का अंजाम कुछ ऐसा हुआ
हमारी मोहब्बत का अंजाम कुछ ऐसा हुआ
Vishal babu (vishu)
ज़िंदगी उससे है मेरी, वो मेरा दिलबर रहे।
ज़िंदगी उससे है मेरी, वो मेरा दिलबर रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
सपनो का सफर संघर्ष लाता है तभी सफलता का आनंद देता है।
सपनो का सफर संघर्ष लाता है तभी सफलता का आनंद देता है।
पूर्वार्थ
दुनिया को छोड़िए मुरशद.!
दुनिया को छोड़िए मुरशद.!
शेखर सिंह
आज की प्रस्तुति - भाग #2
आज की प्रस्तुति - भाग #2
Rajeev Dutta
नव वर्ष
नव वर्ष
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
* टाई-सँग सँवरा-सजा ,लैपटॉप ले साथ【कुंडलिया】*
* टाई-सँग सँवरा-सजा ,लैपटॉप ले साथ【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
वह लोग जिनके रास्ते कई होते हैं......
वह लोग जिनके रास्ते कई होते हैं......
कवि दीपक बवेजा
परिस्थितीजन्य विचार
परिस्थितीजन्य विचार
Shyam Sundar Subramanian
सोच~
सोच~
दिनेश एल० "जैहिंद"
"सुस्त होती जिंदगी"
Dr Meenu Poonia
నమో గణేశ
నమో గణేశ
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
महिला दिवस विशेष दोहे
महिला दिवस विशेष दोहे
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
अगले 72 घण्टों के दौरान
अगले 72 घण्टों के दौरान
*Author प्रणय प्रभात*
*जातक या संसार मा*
*जातक या संसार मा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पहला प्यार नहीं बदला...!!
पहला प्यार नहीं बदला...!!
Ravi Betulwala
अब की बार पत्थर का बनाना ए खुदा
अब की बार पत्थर का बनाना ए खुदा
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
ਅੱਜ ਮੇਰੇ ਲਫਜ਼ ਚੁੱਪ ਨੇ
ਅੱਜ ਮੇਰੇ ਲਫਜ਼ ਚੁੱਪ ਨੇ
rekha mohan
कान खोलकर सुन लो
कान खोलकर सुन लो
Shekhar Chandra Mitra
“ अपने जन्म दिनों पर मौन प्रतिक्रिया ?..फिर अरण्यरोदन क्यों ?”
“ अपने जन्म दिनों पर मौन प्रतिक्रिया ?..फिर अरण्यरोदन क्यों ?”
DrLakshman Jha Parimal
कर क्षमा सब भूल मैं छूता चरण
कर क्षमा सब भूल मैं छूता चरण
Basant Bhagawan Roy
Loading...