Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2024 · 1 min read

बिन बोले ही हो गई, मन से मन की बात ।

बिन बोले ही हो गई, मन से मन की बात ।
अभिसारों को कर गया, खंडित मौन प्रभात ।
जलने को जलते रहे, गहन तिमिर में दीप –
देह क्षुधा बढती गई, ज्यों-ज्यों ढलकी रात ।

सुशील सरना /10-2-24

106 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हर सफ़र ज़िंदगी नहीं होता
हर सफ़र ज़िंदगी नहीं होता
Dr fauzia Naseem shad
आजाद पंछी
आजाद पंछी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
मेरे छिनते घर
मेरे छिनते घर
Anjana banda
मेरी जाति 'स्वयं ' मेरा धर्म 'मस्त '
मेरी जाति 'स्वयं ' मेरा धर्म 'मस्त '
सिद्धार्थ गोरखपुरी
भारत सनातन का देश है।
भारत सनातन का देश है।
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
"परखना सीख जाओगे "
Slok maurya "umang"
आजकल बहुत से लोग ऐसे भी है
आजकल बहुत से लोग ऐसे भी है
Dr.Rashmi Mishra
এটা আনন্দ
এটা আনন্দ
Otteri Selvakumar
" कृषक की व्यथा "
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
बड़ा मन करऽता।
बड़ा मन करऽता।
जय लगन कुमार हैप्पी
दौर ऐसा हैं
दौर ऐसा हैं
SHAMA PARVEEN
दुनिया की हर वोली भाषा को मेरा नमस्कार 🙏🎉
दुनिया की हर वोली भाषा को मेरा नमस्कार 🙏🎉
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
*ईर्ष्या भरम *
*ईर्ष्या भरम *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
* मुक्तक *
* मुक्तक *
surenderpal vaidya
कैसे भुला दूँ उस भूलने वाले को मैं,
कैसे भुला दूँ उस भूलने वाले को मैं,
Vishal babu (vishu)
माना तुम्हारे मुक़ाबिल नहीं मैं।
माना तुम्हारे मुक़ाबिल नहीं मैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
🐼आपकों देखना🐻‍❄️
🐼आपकों देखना🐻‍❄️
Vivek Mishra
#तेवरी / #देसी_ग़ज़ल
#तेवरी / #देसी_ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
ज़िंदगी
ज़िंदगी
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
जब -जब धड़कन को मिली,
जब -जब धड़कन को मिली,
sushil sarna
"बाकी"
Dr. Kishan tandon kranti
बस जिंदगी है गुज़र रही है
बस जिंदगी है गुज़र रही है
Manoj Mahato
हे राम हृदय में आ जाओ
हे राम हृदय में आ जाओ
Saraswati Bajpai
कितना और सहे नारी ?
कितना और सहे नारी ?
Mukta Rashmi
।। परिधि में रहे......।।
।। परिधि में रहे......।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
गर सीरत की चाह हो तो लाना घर रिश्ता।
गर सीरत की चाह हो तो लाना घर रिश्ता।
Taj Mohammad
कल्पना ही हसीन है,
कल्पना ही हसीन है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जीवन अप्रत्याशित
जीवन अप्रत्याशित
पूर्वार्थ
Loading...