Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Aug 2023 · 1 min read

*बिन बुलाए आ जाता है सवाल नहीं करता.!!*

बिन बुलाए आ जाता है सवाल नहीं करता.!!

आखिर क्यों तेरा ख्याल मेरा ख्याल नहीं करता…!!!!

259 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गाय
गाय
Vedha Singh
सुन लेते तुम मेरी सदाएं हम भी रो लेते
सुन लेते तुम मेरी सदाएं हम भी रो लेते
Rashmi Ranjan
विकलांगता : नहीं एक अभिशाप
विकलांगता : नहीं एक अभिशाप
Dr. Upasana Pandey
खुश होगा आंधकार भी एक दिन,
खुश होगा आंधकार भी एक दिन,
goutam shaw
स्वतंत्रता और सीमाएँ - भाग 04 Desert Fellow Rakesh Yadav
स्वतंत्रता और सीमाएँ - भाग 04 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
जगदीश शर्मा सहज
कविता
कविता
Shyam Pandey
ज्ञानमय
ज्ञानमय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मंजिल तक का संघर्ष
मंजिल तक का संघर्ष
Praveen Sain
मेरी दोस्ती मेरा प्यार
मेरी दोस्ती मेरा प्यार
Ram Krishan Rastogi
*हल्दी (बाल कविता)*
*हल्दी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
पीठ के नीचे. . . .
पीठ के नीचे. . . .
sushil sarna
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जिंदगी की ऐसी ही बनती है, दास्तां एक यादगार
जिंदगी की ऐसी ही बनती है, दास्तां एक यादगार
gurudeenverma198
2934.*पूर्णिका*
2934.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
समाज को जगाने का काम करते रहो,
समाज को जगाने का काम करते रहो,
नेताम आर सी
योग और नीरोग
योग और नीरोग
Dr Parveen Thakur
विषधर
विषधर
Rajesh
"चक्र"
Dr. Kishan tandon kranti
किसी भी देश काल और स्थान पर भूकम्प आने का एक कारण होता है मे
किसी भी देश काल और स्थान पर भूकम्प आने का एक कारण होता है मे
Rj Anand Prajapati
#मुझे_गर्व_है
#मुझे_गर्व_है
*Author प्रणय प्रभात*
दोस्ती.......
दोस्ती.......
Harminder Kaur
नव वर्ष का आगाज़
नव वर्ष का आगाज़
Vandna Thakur
सुबह आंख लग गई
सुबह आंख लग गई
Ashwani Kumar Jaiswal
ख़ुद के होते हुए भी
ख़ुद के होते हुए भी
Dr fauzia Naseem shad
फ़ितरत
फ़ितरत
Priti chaudhary
धनतेरस के अवसर पर ,
धनतेरस के अवसर पर ,
Yogendra Chaturwedi
पाषाण जज्बातों से मेरी, मोहब्बत जता रहे हो तुम।
पाषाण जज्बातों से मेरी, मोहब्बत जता रहे हो तुम।
Manisha Manjari
गुजरा ज़माना
गुजरा ज़माना
Dr.Priya Soni Khare
आया नववर्ष
आया नववर्ष
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
Loading...