Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jan 2017 · 4 min read

बिन फेरे हम तेरे

लघुकथा : बिन फेरे हम तेरे

बात तब की है जब शादी व्याहों में बारातें होती थी यानी वोह एक दिन
वाली नहीं जैसी आजकल होती है बाकायदा ३-४ दिन की होती थीं
द्वारचार शादी कच्चा खाना या भात कुँवर कलेवा शिष्टाचार और
तीसरे दिन बिदाई, बारात में नाते रिश्तेदार दोस्त नौकर चाकर
मोहल्लेवाले मिलाकर 150 से 250 तक लोग होते थे बारात बसों से
सड़कों तक फिर बैल गाड़ियों या अध्धों पर गाती बजाती चलती थी बड़ा
मजा आता था

हाँ तो जब मैं नवी कक्षा में पढता था और देखने सुनने में अच्छा
खासा दिखता था कसरती खिलाड़ी बदन और आकर्षक मुझे मेरे ममेरे
भाई क़ी शादी में बारात में जाने का अवसर मिला पक्की सड़क से कोई
5 किलोमीटर अंदर नदी किनारे वोह गाँव था हमें वहाँ के स्कूल में
जनवासा दिया गया पहुचने पर भव्य स्वागत हुवा एक तरफ
माँसाहारी और दूसरी तरफ शाकाहारी घड़ों में भर कर देशी शराब का
भी इंतजाम था जिसका बारातियों ने भरपूर मज़ा लिया

रात 10 बजे बारात द्वारचार हेतु वधु पक्ष के दरवाजे बाजे गाजे के
साथ नाचते गाते पहुची वहाँ भी भव्य स्वागत हुआ पूरा गाँव स्वागत
में लगा था द्वारचार ,शादी अगली दोपहर कच्चा भात ठीक ठाक
निपट गये सब अच्छा चल रहा था मैंने एक बात को नोटिस किया
वधु पक्ष की एक बड़ी बड़ी आखोंवाली सुंदर कन्या मेरी तरफ कुछ
ज्यादा ही आकर्षित हो रही थी कुछ न कुछ हरकत के साथ सामने आ
जाती पर मैंने ज्यादा ध्यान नहीं दिया

फिर शाम को कुँवर कलेवा हेतु बुलावा आया और हमारे दूल्हे भाई साहेब
के साथ हम 5 सह्बेले लोग भी साथ गये हमें शादी के मंडप के नीचे
बिठाया गया वहीँ पर दहेज़ का घरेलू सामान भी सजा था पलँग एल्मारी
ड्रेसिंग टेबल सोफा रेडियो बिजली का पंखा सभी कुछ मैं सोफे पर बैठा
था सामने ही ड्रेसिंग टेबल थी उसके शीशे में मुझे अपने पीछे का नज़ारा
साफ़ दिख रहा था वोह लड़की कई अन्य लड़कियों के साथ शरारतों में
लगी थी हसीं मजाक का दौर चल रहा था भैया कीसास जी आयीं उन्होंने
हमें टीका लगा कर दही पेडा खिलाया रुपया नेग दिया और भाई साहेब
को कलेवा खिलाने लगी हम सभी रस्मों का आनंद ले रहे थे कि अचानक
मैंने देखा कि वोह लड़की चुपचाप हाथ में सिदूर लेकर मेरी तरफ पीछे से
बढ़ रही है शायद उसका इरादा मेरी माँग में सिन्दूर भरने का था वोह
मुझे ड्रेसिंग टेबल के शीशे में साफ़ नज़र आ रही थी

मैंने उसे आने दिया.. पर ज्योंही वोह अपनी मुटठी सिन्दूर के साथ
मेरे सिर पर लायी.. पलक झपकते ही वोह मेरी गोद में आ .गिरी और
उसका हाथ पकड़ उसी का सिन्दूर उसी की माँग में भरपूर भरा जा चुका
था सब कुछ इतनी जल्दी में घटा कि कोई कुछ समझ पाता हंगामा हो
गया वोह लड़की किसी प्रकार उठकर अन्दर भाग गयी मैं आवाक सा था
मण्डप के नीचे कुवारी कन्या की माँग में सिन्दूर डालना कोई साधारण
बात नहीं थी गाँव का माहौल देखते ही देखते सैकड़ों की संख्या में गाँव
वाले इक्कठे हो गये हमारी तरफ के बड़े बूढ़े भी मिलनी की
रसम छोड़ वहां आ गये गाँववाले कह रहे थे जब माँग भर दी है तो फेरे
करा कर इनकी शादी करा दो पर दोनों पक्ष के समझदार लोग ये दोनों
बच्चे और नाबालिग हैं इसके खिलाफ थे खूब बहस मुबाहसा हुआ और
हमारी बारात अगले दिन बिदाई के बाद वापस रवाना हो गयी

बाद में हमारी नई भाभी ने मुझे बताया कि वोह लड़की उनके चाचा
की लड़की मीना थी और ग्वालियर शहर में आठवीं कक्षा में पढ़ती थी
जहाँ उसके पिता सरकारी डाक्टर थे वोह लड़की उस घटना के बाद बहुत
उदास हो गयी थी सदा रोती रहती थी मुझे मन ही मन उसने पति के
रूप में वरण कर लिया था मण्डप में माँग भरा जाना एक ऐसी घटना
थी जिसने उसके कोमल मन पर अमिट छाप छोडी थी जब जब भाभी से
मुलाकात होती वोह मेरे बारे में ज्यादा से ज्यादा जानने की कोशिश करती
मैं कैसा हूँ कहाँ पढता हूँ क्या मैं उसे याद करता हूँ अदि अदि एक दो
बार भाभी ने मुझे उसके द्वारा लिखे कुछ पत्र भी दिये जिसमे उसने
अपना दिल निकाल कर रख दिया था वोह मुझे पति मानती है जिंदगी भर
साथ साथ जीना और मरना चाहती है मैं एक सीधा सादा लड़का था क्या
उत्तर देता पर दिल से मैं भी उसे चाहनेलगा था…हम बिन फेरे ही एक
दूसरे के हो चुके थे यद्यपि आज के ज़माने के सम्पर्क साधन न होने से
हमारे बीच कोई सम्वाद नहीं था हाँ भाभी के माध्यम से हम एक दूसरे के
बारे में जानने को उत्सुक रहते थे पढाई समाप्त कर नौकरी में लग गया
तमाम शादी के प्रस्ताव आ रहे थे पर मेरे दिलोदिमाग में मीना ही छायी
थी मुझे वो ही पत्नी के रूप में स्वीकार थी मैंने भाभी के द्वारा सन्देश
भी भेजा और उन लोगों ने सहर्ष अपनी सहमति दी और शीघ्र हम सात
फेरों के पवित्र बन्धन में बंध गये

मुझे बहुत प्रसन्नता है कि मुझे मीना जैसी जीवन संगिनी मिली पर
हम तो बहुत पहिले ही मन मस्तिष्क से “बिन फेरे हम तेरे ” हो चुके थे

(समाप्त )

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 591 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुम नहीं बदले___
तुम नहीं बदले___
Rajesh vyas
मेरा विचार ही व्यक्तित्व है..
मेरा विचार ही व्यक्तित्व है..
Jp yathesht
हार जाते हैं
हार जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
अच्छा रहता
अच्छा रहता
Pratibha Pandey
"कहाँ ठिकाना होगा?"
Dr. Kishan tandon kranti
संस्मरण:भगवान स्वरूप सक्सेना
संस्मरण:भगवान स्वरूप सक्सेना "मुसाफिर"
Ravi Prakash
जै हनुमान
जै हनुमान
Seema Garg
कैसे बचेगी मानवता
कैसे बचेगी मानवता
Dr. Man Mohan Krishna
हम संभलते है, भटकते नहीं
हम संभलते है, भटकते नहीं
Ruchi Dubey
दोस्तो जिंदगी में कभी कभी ऐसी परिस्थिति आती है, आप चाहे लाख
दोस्तो जिंदगी में कभी कभी ऐसी परिस्थिति आती है, आप चाहे लाख
Sunil Maheshwari
रास्ते अनेको अनेक चुन लो
रास्ते अनेको अनेक चुन लो
उमेश बैरवा
अनपढ़ दिखे समाज, बोलिए क्या स्वतंत्र हम
अनपढ़ दिखे समाज, बोलिए क्या स्वतंत्र हम
Pt. Brajesh Kumar Nayak
🙅महा-ज्ञान🙅
🙅महा-ज्ञान🙅
*प्रणय प्रभात*
शादी की अंगूठी
शादी की अंगूठी
Sidhartha Mishra
दोहे एकादश...
दोहे एकादश...
डॉ.सीमा अग्रवाल
राम नाम सर्वश्रेष्ठ है,
राम नाम सर्वश्रेष्ठ है,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
अगर महोब्बत बेपनाह हो किसी से
अगर महोब्बत बेपनाह हो किसी से
शेखर सिंह
*दही खाने के 15 अद्भुत चमत्कारी अमृतमयी फायदे...*
*दही खाने के 15 अद्भुत चमत्कारी अमृतमयी फायदे...*
Rituraj shivem verma
सुहागन की अभिलाषा🙏
सुहागन की अभिलाषा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
नारी
नारी
Prakash Chandra
2870.*पूर्णिका*
2870.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्यार करता हूं और निभाना चाहता हूं
प्यार करता हूं और निभाना चाहता हूं
इंजी. संजय श्रीवास्तव
यूँ ही नही लुभाता,
यूँ ही नही लुभाता,
हिमांशु Kulshrestha
"चुनाव के दौरान नेता गरीबों के घर खाने ही क्यों जाते हैं, गर
गुमनाम 'बाबा'
वो ज़ख्म जो दिखाई नहीं देते
वो ज़ख्म जो दिखाई नहीं देते
shabina. Naaz
बदलाव जरूरी है
बदलाव जरूरी है
Surinder blackpen
आत्म बोध
आत्म बोध
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बेटी पढ़ायें, बेटी बचायें
बेटी पढ़ायें, बेटी बचायें
Kanchan Khanna
कुंडलिया
कुंडलिया
sushil sarna
Loading...