Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Feb 2017 · 1 min read

बिना मेहनत के नहीं मिलता कोई फल यारों

धरती खोदोगे तब मिलेगा तुम्हें जल यारों।
बिना मेहनत के नहीं मिलता कोई फल यारों।।

धूप में जिस किसान का बहा पसीना है,
लहलहाई है बस उसी की तो फसल यारों।।

सबसे पहले चलो समुद्र का मंथन कर लें,
बाद में देखेंगे अमृत है या गरल यारों।।

काम झटपट नहीं होते हैं अजूबे वाले,
बीस बरसों में बना था वो ताजमहल यारों।।

नौजवाँ हम हैं पूरी दुनिया को हिला देंगे,
गर इरादा अभी से करलें हम अटल यारों।।

ज़िदगी में अगर कीचड़ ही है तो क्या ग़म है,
जानते हो न कहाँ खिलता है कमल यारों ?

तोड़के रख लो अपनी मुट्ठी में उस सूरज को,
पथ का पर्वत अरे! फिर जायेगा पिघल यारों।।

चाह है तो न क्यों मिलेगा समंदर तुमको ,
दरिया बनकर तो कभी राह में दो चल यारों ।।

अब ज़रा सपनों से बाहर निकलके काम करो,
रेत पर क्यों बनाते रहते हो महल यारों ?

पहली ही बार में तुम गिरके हार मान गए,
करलो इक बार उस मकड़ी की तुम नकल यारों ।

देता ‘आराम है हराम’ का नारा ‘सौरभ’,
चींटियों का ये फिर से चल पड़ा है दल यारों ।

– सुरेश कुमार ‘सौरभ’

496 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
प्यार आपस में दिलों में भी अगर बसता है
प्यार आपस में दिलों में भी अगर बसता है
Anis Shah
शहद टपकता है जिनके लहजे से
शहद टपकता है जिनके लहजे से
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कितने ही गठबंधन बनाओ
कितने ही गठबंधन बनाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तस्वीरें
तस्वीरें
Kanchan Khanna
Nothing grand to wish for, but I pray that I am not yet pass
Nothing grand to wish for, but I pray that I am not yet pass
पूर्वार्थ
!! प्रेम बारिश !!
!! प्रेम बारिश !!
The_dk_poetry
देश की हालात
देश की हालात
Dr. Man Mohan Krishna
नव कोंपलें स्फुटित हुई, पतझड़ के पश्चात
नव कोंपलें स्फुटित हुई, पतझड़ के पश्चात
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
किताबें पूछती है
किताबें पूछती है
Surinder blackpen
मुक्तक...छंद पद्मावती
मुक्तक...छंद पद्मावती
डॉ.सीमा अग्रवाल
घबराना हिम्मत को दबाना है।
घबराना हिम्मत को दबाना है।
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मैं ढूंढता हूं रातो - दिन कोई बशर मिले।
मैं ढूंढता हूं रातो - दिन कोई बशर मिले।
सत्य कुमार प्रेमी
सैलाब .....
सैलाब .....
sushil sarna
मोहब्बत के शरबत के रंग को देख कर
मोहब्बत के शरबत के रंग को देख कर
Shakil Alam
जीवन में सफलता पाने के लिए तीन गुरु जरूरी हैं:
जीवन में सफलता पाने के लिए तीन गुरु जरूरी हैं:
Sidhartha Mishra
जब लोग आपसे खफा होने
जब लोग आपसे खफा होने
Ranjeet kumar patre
"चाह"
Dr. Kishan tandon kranti
धुंध इतनी की खुद के
धुंध इतनी की खुद के
Atul "Krishn"
मेरी जिंदगी सजा दे
मेरी जिंदगी सजा दे
Basant Bhagawan Roy
*नारी के सोलह श्रृंगार*
*नारी के सोलह श्रृंगार*
Dr. Vaishali Verma
*शिवरात्रि*
*शिवरात्रि*
Dr. Priya Gupta
कहानी। सेवानिवृति
कहानी। सेवानिवृति
मधुसूदन गौतम
*खिलौना आदमी है बस, समय के हाथ चाभी है (हिंदी गजल)*
*खिलौना आदमी है बस, समय के हाथ चाभी है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
पाखी खोले पंख : व्यापक फलक की प्रस्तुति
पाखी खोले पंख : व्यापक फलक की प्रस्तुति
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दृढ़
दृढ़
Sanjay ' शून्य'
23/25.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/25.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दाग
दाग
Neeraj Agarwal
धरा और हरियाली
धरा और हरियाली
Buddha Prakash
खोज सत्य की जारी है
खोज सत्य की जारी है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
Loading...