Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2023 · 1 min read

बिना बकरे वाली ईद आप सबको मुबारक़ हो।

अल्लाह, ईश्वर, God सब एक है
मुझे किसी भी धर्म से कोई आपत्ति नहीं है, मैं दुनिया के हर एक धर्म का सम्मान करता हूँ।

लेकिन मुझे आपत्ति इस बात से है कि धर्म की आड़ में हर साल लाखों-करोड़ों बेज़ुबान जानवरों की निर्मम हत्या कर दी जाती है क़ुर्बानी के नाम पर।

कौनसी क़ुर्बानी? कैसी क़ुर्बानी? आपने दी ही कहां है क़ुर्बानी? आपका क्या क़ुर्बान हुआ उसमें?
क़ुर्बान तो वो बेचारा मासूम, बेज़ुबान जानवर हुआ है।

क़ुर्बानी, बलि- धर्म के नाम पे ये हिंसा बंद करो

मैं बलि और क़ुर्बानी कुप्रथा के सख़्त ख़िलाफ़ हूँ।

अपने जीभ के स्वाद के लिए अंडा-माँस-Nonveg खाने वालों प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से तुम भी हिंसा कर रहे हो।
छोड़ दो ये गंद खाना, और भी बहुत कुछ है खाने के लिए।
किसी भी धर्म में हिंसा के लिए कोई भी जगह नहीं है।

बिना बकरे वाली ईद आप सबको मुबारक़ हो।

मेरे सभी मुसलमान, हिन्दू सिख, जैन, बौद्ध, पारसी, यहूदी सभी भाइयों को अल्लाह ख़ूब खुशियाँ दे-आमीन

आप सबका #सुधीरा

#बक़रीद #ईद #Bakrid #अहिंसा #saveanimals #sudhiraa

524 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कामयाबी
कामयाबी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
// लो फागुन आई होली आया //
// लो फागुन आई होली आया //
Surya Barman
अछूत....
अछूत....
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
क्रिकेट
क्रिकेट
SHAMA PARVEEN
मिलना तो होगा नही अब ताउम्र
मिलना तो होगा नही अब ताउम्र
Dr Manju Saini
वाणी वह अस्त्र है जो आपको जीवन में उन्नति देने व अवनति देने
वाणी वह अस्त्र है जो आपको जीवन में उन्नति देने व अवनति देने
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
मुफ्तखोरी
मुफ्तखोरी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वृद्धों को मिलता नहीं,
वृद्धों को मिलता नहीं,
sushil sarna
" कटु सत्य "
DrLakshman Jha Parimal
*इश्क़ न हो किसी को*
*इश्क़ न हो किसी को*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"मेरी जिम्मेदारी "
Pushpraj Anant
23/218. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/218. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अतीत - “टाइम मशीन
अतीत - “टाइम मशीन"
Atul "Krishn"
कुछ नही हो...
कुछ नही हो...
Sapna K S
उलझनें
उलझनें
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
हर बार धोखे से धोखे के लिये हम तैयार है
हर बार धोखे से धोखे के लिये हम तैयार है
manisha
प्यासी कली
प्यासी कली
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
किस किस से बचाऊं तुम्हें मैं,
किस किस से बचाऊं तुम्हें मैं,
Vishal babu (vishu)
दीपावली
दीपावली
Deepali Kalra
सरहद
सरहद
लक्ष्मी सिंह
■ एक शाश्वत सच
■ एक शाश्वत सच
*Author प्रणय प्रभात*
"श्रृंगारिका"
Ekta chitrangini
आंसू
आंसू
नूरफातिमा खातून नूरी
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
सरस्वती वंदना-6
सरस्वती वंदना-6
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
इस गुज़रते साल में...कितने मनसूबे दबाये बैठे हो...!!
इस गुज़रते साल में...कितने मनसूबे दबाये बैठे हो...!!
Ravi Betulwala
इस तरह क्या दिन फिरेंगे....
इस तरह क्या दिन फिरेंगे....
डॉ.सीमा अग्रवाल
बिहार में दलित–पिछड़ा के बीच विरोध-अंतर्विरोध की एक पड़ताल : DR. MUSAFIR BAITHA
बिहार में दलित–पिछड़ा के बीच विरोध-अंतर्विरोध की एक पड़ताल : DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
दिल में रह जाते हैं
दिल में रह जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
🥀 #गुरु_चरणों_की_धूल 🥀
🥀 #गुरु_चरणों_की_धूल 🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Loading...