Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 May 2023 · 1 min read

बिछड़ के नींद से आँखों में बस जलन होगी।

बिछड़ के नींद से आँखों में बस जलन होगी।
उनींदी आँख पे ख़्वाबों को पुर – थकन होगी।

तुम्हारे साथ मुहब्बत के रंग तारी हैं,
तुम्हारे बाद उदासी ही हम – सुख़न होगी

प्रशान्त मिश्रा मन

256 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
में बेरोजगारी पर स्वार
में बेरोजगारी पर स्वार
भरत कुमार सोलंकी
💐💞💐
💐💞💐
शेखर सिंह
#सामयिक_सलाह
#सामयिक_सलाह
*Author प्रणय प्रभात*
रात के बाद सुबह का इंतजार रहता हैं।
रात के बाद सुबह का इंतजार रहता हैं।
Neeraj Agarwal
दर्द
दर्द
SHAMA PARVEEN
" आज चाँदनी मुस्काई "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
दर्द -ऐ सर हुआ सब कुछ भुलाकर आये है ।
दर्द -ऐ सर हुआ सब कुछ भुलाकर आये है ।
Phool gufran
भोर
भोर
Omee Bhargava
न्याय तो वो होता
न्याय तो वो होता
Mahender Singh
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसा...आज़ कोई सामान बिक गया नाम बन के
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसा...आज़ कोई सामान बिक गया नाम बन के
अनिल कुमार
क्या मणिपुर बंगाल क्या, क्या ही राजस्थान ?
क्या मणिपुर बंगाल क्या, क्या ही राजस्थान ?
Arvind trivedi
कोई काम हो तो बताना,पर जरूरत पर बहाना
कोई काम हो तो बताना,पर जरूरत पर बहाना
पूर्वार्थ
वैशाख की धूप
वैशाख की धूप
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
पिता का बेटी को पत्र
पिता का बेटी को पत्र
प्रीतम श्रावस्तवी
मेरे वतन मेरे वतन
मेरे वतन मेरे वतन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अतुल वरदान है हिंदी, सकल सम्मान है हिंदी।
अतुल वरदान है हिंदी, सकल सम्मान है हिंदी।
Neelam Sharma
*गुरु (बाल कविता)*
*गुरु (बाल कविता)*
Ravi Prakash
जन-मन की भाषा हिन्दी
जन-मन की भाषा हिन्दी
Seema Garg
कब मैंने चाहा सजन
कब मैंने चाहा सजन
लक्ष्मी सिंह
एक इस आदत से, बदनाम यहाँ हम हो गए
एक इस आदत से, बदनाम यहाँ हम हो गए
gurudeenverma198
आजादी की कहानी
आजादी की कहानी
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
निकले थे चांद की तलाश में
निकले थे चांद की तलाश में
Dushyant Kumar Patel
धूतानां धूतम अस्मि
धूतानां धूतम अस्मि
DR ARUN KUMAR SHASTRI
धड़कन से धड़कन मिली,
धड़कन से धड़कन मिली,
sushil sarna
गुलाब
गुलाब
Satyaveer vaishnav
हमसे भी अच्छे लोग नहीं आयेंगे अब इस दुनिया में,
हमसे भी अच्छे लोग नहीं आयेंगे अब इस दुनिया में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
उधार वो किसी का रखते नहीं,
उधार वो किसी का रखते नहीं,
Vishal babu (vishu)
"चिन्तन"
Dr. Kishan tandon kranti
तीन बुंदेली दोहा- #किवरिया / #किवरियाँ
तीन बुंदेली दोहा- #किवरिया / #किवरियाँ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हम संभलते है, भटकते नहीं
हम संभलते है, भटकते नहीं
Ruchi Dubey
Loading...