Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Sep 2022 · 1 min read

बाढ़ और इंसान।

घन -घोर घटा जब छा गए,
रिमझिम-रिमझिम बारिश आ गई,
बरसात का टूटा शैलाब,
बादल फाटा ये हुआ आपदा,
बढ़ गयी नदियों में जल की तादाद,
बिस्तार हुआ और आ गई बाढ़,
जल प्लावन् में डूबे खेत-खलिहान,
बस्ती गाँव शहर और प्राण,
एक ही कश्ती में सवार है जीव -जंतु और इंसान,
बाढ़ में बह गये कितने ही जान,
घर से बेघर हो गये गरीब इंसान,
भूखे बच्चे नंगे बिलख रहे है आज,
धारण किये है भयावह रूप ,
प्रकृति ने चेताया जग है नाशवान्,
अपनी प्रवृत्ति न भूल इंसान,
सकल जगत में प्रकृति का अधिकार,
बनाती हूँ संतुलन बाढ़ रूप से भी,
शांति भंग हुई है तेरा ऐसा व्यवहार,
साध अपने मन को,
सहयोग से उठ खड़ा हो ,
फिर से बीज बो जीवन के।

रचनाकार-
बुद्ध प्रकाश,
मौदहा हमीरपुर।

2 Likes · 232 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
शरीर मोच खाती है कभी आपकी सोच नहीं यदि सोच भी मोच खा गई तो आ
शरीर मोच खाती है कभी आपकी सोच नहीं यदि सोच भी मोच खा गई तो आ
Rj Anand Prajapati
मौसम तुझको देखते ,
मौसम तुझको देखते ,
sushil sarna
कदम आगे बढ़ाना
कदम आगे बढ़ाना
surenderpal vaidya
बातें कल भी होती थी, बातें आज भी होती हैं।
बातें कल भी होती थी, बातें आज भी होती हैं।
ओसमणी साहू 'ओश'
महा कवि वृंद रचनाकार,
महा कवि वृंद रचनाकार,
Neelam Sharma
2610.पूर्णिका
2610.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मां
मां
Sanjay ' शून्य'
आखिर कब तक
आखिर कब तक
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
नारी बिन नर अधूरा✍️
नारी बिन नर अधूरा✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
वसंत - फाग का राग है
वसंत - फाग का राग है
Atul "Krishn"
हमराही
हमराही
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
अफसाने
अफसाने
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
*वन की ओर चले रघुराई (कुछ चौपाइयॉं)*
*वन की ओर चले रघुराई (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
यादों की तस्वीर
यादों की तस्वीर
Dipak Kumar "Girja"
कवि को क्या लेना देना है !
कवि को क्या लेना देना है !
Ramswaroop Dinkar
मुझसे गलतियां हों तो अपना समझकर बता देना
मुझसे गलतियां हों तो अपना समझकर बता देना
Sonam Puneet Dubey
"तन्हाई"
Dr. Kishan tandon kranti
■ “दिन कभी तो निकलेगा!”
■ “दिन कभी तो निकलेगा!”
*प्रणय प्रभात*
मिलती नहीं खुशी अब ज़माने पहले जैसे कहीं भी,
मिलती नहीं खुशी अब ज़माने पहले जैसे कहीं भी,
manjula chauhan
कुछ तुम कहो जी, कुछ हम कहेंगे
कुछ तुम कहो जी, कुछ हम कहेंगे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हीर मात्रिक छंद
हीर मात्रिक छंद
Subhash Singhai
समझ मत मील भर का ही, सृजन संसार मेरा है ।
समझ मत मील भर का ही, सृजन संसार मेरा है ।
Ashok deep
मैं भी आज किसी से प्यार में हूँ
मैं भी आज किसी से प्यार में हूँ
VINOD CHAUHAN
हर दिल में प्यार है
हर दिल में प्यार है
Surinder blackpen
ख्वाब नाज़ुक हैं
ख्वाब नाज़ुक हैं
rkchaudhary2012
If you do things the same way you've always done them, you'l
If you do things the same way you've always done them, you'l
Vipin Singh
Pollution & Mental Health
Pollution & Mental Health
Tushar Jagawat
Quote..
Quote..
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
धन्यवाद कोरोना
धन्यवाद कोरोना
Arti Bhadauria
*बाल गीत (मेरा सहपाठी )*
*बाल गीत (मेरा सहपाठी )*
Rituraj shivem verma
Loading...