Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Apr 2021 · 1 min read

सुन्दर घर

घर मेरा है इतना सुंदर,
रहते इसके पेड़ पर बंदर ।

पंक्ति लगाकर चलती चींटी,
अनुशासन सिखलाती फिर भी ।

चूहा मेरे घर के बिल में,
अनाज खाता कुतर- कुतर कर ।

चुपके- चुपके बिल्ली आती,
बच्चों का दूध पी जाती।

पूंँछ हिलाता मेरे घर पर,
श्वान देखता अपरिचित जन को ।

मकड़ी मेरे घर की रानी,
बुनती जाल कीट है खाती ।

छोटी चिड़िया बालकनी पर,
बच्चों को दाना चुंँगाती ।

सरपट चलाती दीवारों पर,
छिपकली से डरते हैं सब ।

मांँ भी मेरी प्यारी- प्यारी,
छोटी-छोटी बातें सिखाती ।

रचनाकार ✍🏼✍🏼
बुद्ध प्रकाश,
मौदहा हमीरपुर।

12 Likes · 8 Comments · 980 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
प्रकृति
प्रकृति
Sûrëkhâ
पितृ स्तुति
पितृ स्तुति
गुमनाम 'बाबा'
करतल पर सबका लिखा ,सब भविष्य या भूत (कुंडलिया)
करतल पर सबका लिखा ,सब भविष्य या भूत (कुंडलिया)
Ravi Prakash
जितनी बार भी तुम मिली थी ज़िंदगी,
जितनी बार भी तुम मिली थी ज़िंदगी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
तू बेखबर इतना भी ना हो
तू बेखबर इतना भी ना हो
gurudeenverma198
59...
59...
sushil yadav
यदि कोई केवल जरूरत पड़ने पर
यदि कोई केवल जरूरत पड़ने पर
नेताम आर सी
ਪਰਦੇਸ
ਪਰਦੇਸ
Surinder blackpen
संविधान का पालन
संविधान का पालन
विजय कुमार अग्रवाल
जलाओ प्यार के दीपक खिलाओ फूल चाहत के
जलाओ प्यार के दीपक खिलाओ फूल चाहत के
आर.एस. 'प्रीतम'
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
***होली के व्यंजन***
***होली के व्यंजन***
Kavita Chouhan
एक गुलाब हो
एक गुलाब हो
हिमांशु Kulshrestha
Bundeli Doha - birra
Bundeli Doha - birra
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आत्मनिर्भर नारी
आत्मनिर्भर नारी
Anamika Tiwari 'annpurna '
मैंने चांद से पूछा चहरे पर ये धब्बे क्यों।
मैंने चांद से पूछा चहरे पर ये धब्बे क्यों।
सत्य कुमार प्रेमी
■ थोथे नेता, थोथे वादे।।
■ थोथे नेता, थोथे वादे।।
*प्रणय प्रभात*
प्रिय भतीजी के लिए...
प्रिय भतीजी के लिए...
डॉ.सीमा अग्रवाल
आदान-प्रदान
आदान-प्रदान
Ashwani Kumar Jaiswal
बड़े अगर कोई बात कहें तो उसे
बड़े अगर कोई बात कहें तो उसे
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
"विदूषक"
Dr. Kishan tandon kranti
सावन म वैशाख समा गे
सावन म वैशाख समा गे
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
तेरे गम का सफर
तेरे गम का सफर
Rajeev Dutta
दिल से निकले हाय
दिल से निकले हाय
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
* किधर वो गया है *
* किधर वो गया है *
surenderpal vaidya
एक दिवस में
एक दिवस में
Shweta Soni
एक टहनी एक दिन पतवार बनती है,
एक टहनी एक दिन पतवार बनती है,
Slok maurya "umang"
भारतीय क्रिकेट टीम के पहले कप्तान : कर्नल सी. के. नायडू
भारतीय क्रिकेट टीम के पहले कप्तान : कर्नल सी. के. नायडू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ऐ जिन्दगी मैने तुम्हारा
ऐ जिन्दगी मैने तुम्हारा
पूर्वार्थ
3058.*पूर्णिका*
3058.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...