Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Mar 2017 · 1 min read

*** बाल गीत **

प्यारा चंदा प्यारे तारे

आसमान में चमके सारे ।

सूरज के आने से पहले

सारी रात जगाते तारे ।

कभी नहीं आपस में लड़ते

मिलजुलकर रहते हैं सारे ।

प्यारे आकर तुम बतलादो

आसमान में कितने तारे ।

क्या-क्या जाति-धर्म है इनके

कहाँ – कहाँ से आते सारे ?

नहीं इनका कोई मज़हब

दुनियां को चमकाते तारे ।

हिलमिलकर रहते हैं सारे

भेद भुलाकर तारे सारे ।

आओ हम भी सीखें इनसे

मिलजुलकर आपस में रहना ।

प्यारा चंदा प्यारे तारे

आसमान में चमके सारे ।।

?मधुप बैरागी

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 250 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from भूरचन्द जयपाल
View all
You may also like:
श्याम दिलबर बना जब से
श्याम दिलबर बना जब से
Khaimsingh Saini
हम ये कैसा मलाल कर बैठे
हम ये कैसा मलाल कर बैठे
Dr fauzia Naseem shad
चन्द्रयान पहुँचा वहाँ,
चन्द्रयान पहुँचा वहाँ,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रेरणा गीत
प्रेरणा गीत
Saraswati Bajpai
जल रहें हैं, जल पड़ेंगे और जल - जल   के जलेंगे
जल रहें हैं, जल पड़ेंगे और जल - जल के जलेंगे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
प्रियवर
प्रियवर
लक्ष्मी सिंह
"यदि"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
घर की रानी
घर की रानी
Kanchan Khanna
फ़ितरत नहीं बदलनी थी ।
फ़ितरत नहीं बदलनी थी ।
Buddha Prakash
Beyond The Flaws
Beyond The Flaws
Vedha Singh
रमेशराज के विरोधरस के गीत
रमेशराज के विरोधरस के गीत
कवि रमेशराज
Bus tumme hi khona chahti hu mai
Bus tumme hi khona chahti hu mai
Sakshi Tripathi
I haven’t always been a good person.
I haven’t always been a good person.
पूर्वार्थ
*ऑंखों के तुम निजी सचिव-से, चश्मा तुम्हें प्रणाम (गीत)*
*ऑंखों के तुम निजी सचिव-से, चश्मा तुम्हें प्रणाम (गीत)*
Ravi Prakash
दोहा समीक्षा- राजीव नामदेव राना लिधौरी
दोहा समीक्षा- राजीव नामदेव राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
नाकाम किस्मत( कविता)
नाकाम किस्मत( कविता)
Monika Yadav (Rachina)
#दोहा
#दोहा
*प्रणय प्रभात*
लोग कहते हैं कि
लोग कहते हैं कि
VINOD CHAUHAN
3002.*पूर्णिका*
3002.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पहले प्यार में
पहले प्यार में
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
साहित्य गौरव
कोई ना होता है अपना माँ के सिवा
कोई ना होता है अपना माँ के सिवा
Basant Bhagawan Roy
कारगिल युद्ध के समय की कविता
कारगिल युद्ध के समय की कविता
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
राजनीति में ना प्रखर,आते यह बलवान ।
राजनीति में ना प्रखर,आते यह बलवान ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
यक्षिणी / MUSAFIR BAITHA
यक्षिणी / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...