Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Sep 2023 · 1 min read

बाल गीत “लंबू चाचा आये हैं”

लंबू चाचा आये हैं।
खेल खिलोने लाये हैं।।
रंग- बिरंगे गुब्बारे हैं।
संग में चमक सितारे हैं।

आओ भैया बाहर आओ।
दिल धक-धक धक से धड़काओ।
मिलकर सारे मौज मनाओ।
पप्पू भैया जल्दी आओ।।

लाल सुनहरे नीले पीले ।
गुब्बारे हैं बहुत रॅगीले।।
थैले में हैं भरे खिलौने।
संगी साथी हैं कुछ बौने।

तरह- -तरह के खेल दिखाते।
रस्सी पर हैं वो चढ़ जाते।।
मीठे- —मीठे गीत सुनाते।
सबके मन को हैं वो भाते।।

पप्पू भैया आ जाओ ना।
हमको अधिक सताओ ना।।
लंबू चाचा चले जायेंगे।
फिर कैसे मौज मनायेंगे।।
#अटल मुरादाबादी #
९६५०२९११०८

Language: Hindi
1 Like · 165 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गुलामी छोड़ दअ
गुलामी छोड़ दअ
Shekhar Chandra Mitra
अगनित अभिलाषा
अगनित अभिलाषा
Dr. Meenakshi Sharma
तेरे आँखों मे पढ़े है बहुत से पन्ने मैंने
तेरे आँखों मे पढ़े है बहुत से पन्ने मैंने
Rohit yadav
यह जो तुम कानो मे खिचड़ी पकाते हो,
यह जो तुम कानो मे खिचड़ी पकाते हो,
Ashwini sharma
देश हमारा भारत प्यारा
देश हमारा भारत प्यारा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
■ लोकतंत्र पर बदनुमा दाग़
■ लोकतंत्र पर बदनुमा दाग़ "वोट-ट्रेडिंग।"
*Author प्रणय प्रभात*
सुप्रभात
सुप्रभात
डॉक्टर रागिनी
दीपक माटी-धातु का,
दीपक माटी-धातु का,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हम हमारे हिस्से का कम लेकर आए
हम हमारे हिस्से का कम लेकर आए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
त्राहि-त्राहि भगवान( कुंडलिया )
त्राहि-त्राहि भगवान( कुंडलिया )
Ravi Prakash
तेज़
तेज़
Sanjay ' शून्य'
ख़ामोशी है चेहरे पर लेकिन
ख़ामोशी है चेहरे पर लेकिन
पूर्वार्थ
भय भव भंजक
भय भव भंजक
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
स्वर्ण दलों से पुष्प की,
स्वर्ण दलों से पुष्प की,
sushil sarna
चांद सितारे चाहत हैं तुम्हारी......
चांद सितारे चाहत हैं तुम्हारी......
Neeraj Agarwal
ज़िंदगी ख़ुद ब ख़ुद
ज़िंदगी ख़ुद ब ख़ुद
Dr fauzia Naseem shad
चींटी रानी
चींटी रानी
Dr Archana Gupta
मुझे पता है।
मुझे पता है।
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
सरप्लस सुख / MUSAFIR BAITHA
सरप्लस सुख / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
**विकास**
**विकास**
Awadhesh Kumar Singh
फूल खिलते जा रहे हैं हो गयी है भोर।
फूल खिलते जा रहे हैं हो गयी है भोर।
surenderpal vaidya
SUCCESS : MYTH & TRUTH
SUCCESS : MYTH & TRUTH
Aditya Prakash
2574.पूर्णिका
2574.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"रात यूं नहीं बड़ी है"
ज़ैद बलियावी
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
महल चिन नेह का निर्मल, सुघड़ बुनियाद रक्खूँगी।
महल चिन नेह का निर्मल, सुघड़ बुनियाद रक्खूँगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
किसी भी देश काल और स्थान पर भूकम्प आने का एक कारण होता है मे
किसी भी देश काल और स्थान पर भूकम्प आने का एक कारण होता है मे
Rj Anand Prajapati
आलाप
आलाप
Punam Pande
रास्ते जिंदगी के हंसते हंसते कट जाएंगे
रास्ते जिंदगी के हंसते हंसते कट जाएंगे
कवि दीपक बवेजा
यह कौन सी तहजीब है, है कौन सी अदा
यह कौन सी तहजीब है, है कौन सी अदा
VINOD CHAUHAN
Loading...