Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Nov 2022 · 2 min read

बाल कहानी- प्यारे चाचा

बाल कहानी- प्यारे चाचा
——————
गोपाल स्कूल से जैसे ही घर आया, उसने देखा कि घर के पास साइकिल खड़ी है। साइकिल देखकर गोपाल समझ गया कि चाचा जी आये हैं। साइकिल देखकर गोपाल का मन ललचाया।
गोपाल को साइकिल चलाना अच्छा लगता था, पर गोपाल साइकिल नहीं चला पाता था।
चाचा की साइकिल देखकर गोपाल का मन साइकिल चलाने का हुआ।
गोपाल ने चाचा जी से पूछा-,”चाचा जी! क्या मैं आपकी साइकिल थोड़ी देर चला लूँ?”
चाचा ने गोपाल से कहा-“बेटा! अभी तुम बहुत छोटे हो, ये साइकिल बड़ी है। तुम नहीं चला पाओगे। अगर गिर गये तो चोट लग जायेगी। अगले महीने तुम्हारे इम्तहान हैं। अभी खूब मन लगाकर पढ़ो। जब तुम पास हो जाओगे, तब ईनाम में तुम्हारे लिये छोटी-सी साइकिल ले आऊँगा और चलाना भी सिखा दूँगा।” चाचा के लाख समझाने पर भी गोपाल नहीं माना, “सिर्फ थोड़ी देर चलाऊँगा” कह कर गोपाल साइकिल लेकर मैदान में चला गया।
थोड़ी ही देर में गोपाल साइकिल चलाते वक़्त गिर गया। उसको काफी चोट आयी।
गोपाल के अभिभावक और चाचा जी तुरंत गोपाल को लेकर डॉक्टर के पास गये। गोपाल अपने किये पर बहुत शर्मिंदा हुआ। उसने चाचाजी से माफ़ी माँगी। चाचाजी ने गोपाल को माफ़ करके गले से लगा लिया।
कुछ दिनों बाद जब गोपाल ठीक हो गया, उसने मन लगाकर पढ़ाई की और अपनी कक्षा में प्रथम आया। चाचाजी ने अपने वादे के अनुसार गोपाल को छोटी-सी साइकिल ईनाम में दी और चलाना भी सिखा दिया। गोपाल ने प्यारे चाचा जी का शुक्रिया अदा किया।

शिक्षा
हमें बड़ों की सीख मानकर उचित समय की प्रतीक्षा करनी चाहिए।

शमा परवीन बहराइच उत्तर प्रदेश

1 Like · 1 Comment · 172 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*****देव प्रबोधिनी*****
*****देव प्रबोधिनी*****
Kavita Chouhan
लेखनी चले कलमकार की
लेखनी चले कलमकार की
Harminder Kaur
गीत लिखती हूं मगर शायर नहीं हूं,
गीत लिखती हूं मगर शायर नहीं हूं,
Anamika Tiwari 'annpurna '
जला रहा हूँ ख़ुद को
जला रहा हूँ ख़ुद को
Akash Yadav
माँ तेरा ना होना
माँ तेरा ना होना
shivam kumar mishra
दिवाली व होली में वार्तालाप
दिवाली व होली में वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
dream of change in society
dream of change in society
Desert fellow Rakesh
तुम ही रहते सदा ख्यालों में
तुम ही रहते सदा ख्यालों में
Dr Archana Gupta
कैसै कह दूं
कैसै कह दूं
Dr fauzia Naseem shad
हो गई जब खत्म अपनी जिंदगी की दास्तां..
हो गई जब खत्म अपनी जिंदगी की दास्तां..
Vishal babu (vishu)
NEEL PADAM
NEEL PADAM
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
उसकी मर्जी
उसकी मर्जी
Satish Srijan
किस क़दर गहरा रिश्ता रहा
किस क़दर गहरा रिश्ता रहा
हिमांशु Kulshrestha
CUPID-STRUCK !
CUPID-STRUCK !
Ahtesham Ahmad
कुछ बात कुछ ख्वाब रहने दे
कुछ बात कुछ ख्वाब रहने दे
डॉ. दीपक मेवाती
याद रहेगा यह दौर मुझको
याद रहेगा यह दौर मुझको
Ranjeet kumar patre
प्यारा भारत देश है
प्यारा भारत देश है
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
बढ़ रही नारी निरंतर
बढ़ रही नारी निरंतर
surenderpal vaidya
सोचो
सोचो
Dinesh Kumar Gangwar
यह जीवन भूल भूलैया है
यह जीवन भूल भूलैया है
VINOD CHAUHAN
■ वक़्त बदल देता है रिश्तों की औक़ात।
■ वक़्त बदल देता है रिश्तों की औक़ात।
*Author प्रणय प्रभात*
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अब तुझपे किसने किया है सितम
अब तुझपे किसने किया है सितम
gurudeenverma198
2395.पूर्णिका
2395.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
एक पौधा तो अपना भी उगाना चाहिए
एक पौधा तो अपना भी उगाना चाहिए
कवि दीपक बवेजा
"प्रथम साहित्य सृजेता"
Dr. Kishan tandon kranti
*सत्य ,प्रेम, करुणा,के प्रतीक अग्निपथ योद्धा,
*सत्य ,प्रेम, करुणा,के प्रतीक अग्निपथ योद्धा,
Shashi kala vyas
दो धारी तलवार
दो धारी तलवार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
’बज्जिका’ लोकभाषा पर एक परिचयात्मक आलेख / DR. MUSAFIR BAITHA
’बज्जिका’ लोकभाषा पर एक परिचयात्मक आलेख / DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Loading...