Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jun 2016 · 1 min read

बाल कविता :– गुड़िया है दंग !!

गुड़िया है दंग

सूरज किरन , चमके गगन ,
चले सनन-सनन, बहकी पवन ,
उडती पतंग !
गुड़िया है दंग !!

खीचे है डोर , मस्ती और शोर,
मन को हिलोर , हसे जोर-जोर,
अम्मा के संग !
गुड़िया है दंग !!

ले के आश , गई अम्मा के पास ,
इन्द्रधनुश , दमके आकाश ,
इन्द्रधनुश का प्यारा रंग !
गुड़िया है दंग !!

कोयल कूके , बाग बगीचे ,
अति प्रिय वाणी , नभ तल नीचे ,
नीलकण्ठ का प्यारा अंग !
गुड़िया है दंग !!

करता कल-कल , नदिया का जल,
होती हलचल , हरदम हरपल ,
उठती जल तरंग !
गुड़िया है दंग !!

बडी ठाठ-बाठ , है सोन घाट ,
देवी के द्वार , सजता है हाट ,
मन मे उमंग !
गुड़िया है दंग !!

सर्कस जादू , ठेलम ठेला ,
गुड्डे गुडियों से सजा है मेला ,
दुल्दुल घोडी और मलंग !
गुड़िया है दंग !!

गुलाबजामुन और मिठाई ,
पानीपुरी संग चाट खटाई ,
बर्फी पेठा और मलाई ,
खूब सजे लड्डू और लाई ,
लस्सी और भंग !
गुड़िया है दंग !!

Language: Hindi
Tag: कविता
2 Likes · 3 Comments · 793 Views
You may also like:
'खिदमत'
Godambari Negi
तुम्हारा ध्यान कहाँ है.....
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
बदरी
सूर्यकांत द्विवेदी
संघर्ष
Sushil chauhan
*नमन बच्चों को जो पढ़कर गरीबी में दिखाते हैं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
तुम्हारी शोख़ अदाएं
VINOD KUMAR CHAUHAN
देवता सो गये : देवता जाग गये!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
खोखली आज़ादी
Shekhar Chandra Mitra
समय और मेहनत
Anamika Singh
✍️इतिहास के पन्नो पर...
'अशांत' शेखर
💐💐परेसां न हो हश्र बहुत हसीं होगा💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कहानी *”ममता”* पार्ट-1 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
बरसात
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
इससे ज़्यादा
Dr fauzia Naseem shad
खुशबू
DESH RAJ
पिता है मेरे रगो के अंदर।
Taj Mohammad
यूं तो लगाए रहता है हर आदमी छाता।
सत्य कुमार प्रेमी
मदिरा और मैं
Sidhant Sharma
ग़र वो है बेवफ़ा बेवफ़ा ही सही
Mahesh Ojha
फूल तो सारे जहां को अच्छा लगा
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
"अरे ओ मानव"
Dr Meenu Poonia
ऊपज
Mahender Singh Hans
मन संसार
Buddha Prakash
# अव्यक्त ....
Chinta netam " मन "
की बात
AJAY PRASAD
विकसित भारत का लक्ष्य India@2047 । अभिषेक श्रीवास्तव ‘शिवा’
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
भोरे
spshukla09179
मोरे मन-मंदिर....।
Kanchan Khanna
नव भारत
पाण्डेय चिदानन्द
I sat back and watched YOU lose me.
Manisha Manjari
Loading...