Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2022 · 1 min read

बारिश

आकाश में छाए वारिधर
चल रही हैं प्रताप बयारे
क्षणप्रभा कड़क रही …
क्षितिज भी देखो गुर्रा रहें
वृष्टि की बूंदे छोटी- छोटी
गिरने लगी धराधर त्वरित
पाँख को नर्तकप्रिय फैलाएं
चित्ताकर्षक- सी करती वो
रहती अपनी नित्य भंगिमा
वर्षा में कैसी दिखती चित्र ?
जलाशय, पुष्कर, ताल में
जल ही जल भरे हुए रहते
विद्यमान तस हो जलमग्न
मेंढक खुशी-खुशी टर टराते
साथ ही मधुर – मधुर स्वर में
होते मग्न हर एक प्राणिवान
बच्चे – बूढ़े के संग किसान
बारिश से सब होते प्रमुदित
उच्चार झूम-झूम गिरे बयारे
लाती हरियाली बढ़ चली
चितवन की ओर ऊंघते
मुंह किए घटित ये घटाएं ,
फोटो भी खींच रहें कौन हुंकार ?
यह मौसम होता बड़ा मनोहर ।

अमरेश कुमार वर्मा
जवाहर नवोदय विद्यालय बेगूसराय बिहार

Language: Hindi
770 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तेरी मुस्कराहटों का राज क्या  है
तेरी मुस्कराहटों का राज क्या है
Anil Mishra Prahari
वक्त और हालात जब साथ नहीं देते हैं।
वक्त और हालात जब साथ नहीं देते हैं।
Manoj Mahato
*जितना आसान है*
*जितना आसान है*
नेताम आर सी
मनहरण घनाक्षरी
मनहरण घनाक्षरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
■ जय जिनेन्द्र
■ जय जिनेन्द्र
*Author प्रणय प्रभात*
वादा करती हूं मै भी साथ रहने का
वादा करती हूं मै भी साथ रहने का
Ram Krishan Rastogi
"गिल्ली-डण्डा"
Dr. Kishan tandon kranti
** गर्मी है पुरजोर **
** गर्मी है पुरजोर **
surenderpal vaidya
हक़ीक़त है
हक़ीक़त है
Dr fauzia Naseem shad
समय
समय
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
[28/03, 17:02] Dr.Rambali Mishra: *पाप का घड़ा फूटता है (दोह
[28/03, 17:02] Dr.Rambali Mishra: *पाप का घड़ा फूटता है (दोह
Rambali Mishra
हुई स्वतंत्र सोने की चिड़िया चहकी डाली -डाली।
हुई स्वतंत्र सोने की चिड़िया चहकी डाली -डाली।
Neelam Sharma
मैकदे को जाता हूँ,
मैकदे को जाता हूँ,
Satish Srijan
पतग की परिणीति
पतग की परिणीति
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
बेवफा
बेवफा
Aditya Raj
💐अज्ञात के प्रति-30💐
💐अज्ञात के प्रति-30💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ज़ुल्फो उड़ी तो काली घटा कह दिया हमने।
ज़ुल्फो उड़ी तो काली घटा कह दिया हमने।
Phool gufran
हिंदी दिवस
हिंदी दिवस
Shashi Dhar Kumar
बाबा भीमराव अम्बेडकर परिनिर्वाण दिवस
बाबा भीमराव अम्बेडकर परिनिर्वाण दिवस
Buddha Prakash
*माता चरणों में विनय, दो सद्बुद्धि विवेक【कुंडलिया】*
*माता चरणों में विनय, दो सद्बुद्धि विवेक【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
चंद्रकक्षा में भेज रहें हैं।
चंद्रकक्षा में भेज रहें हैं।
Aruna Dogra Sharma
चुनौती
चुनौती
Ragini Kumari
*मेरे मम्मी पापा*
*मेरे मम्मी पापा*
Dushyant Kumar
2742. *पूर्णिका*
2742. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दुनिया दिखावे पर मरती है , हम सादगी पर मरते हैं
दुनिया दिखावे पर मरती है , हम सादगी पर मरते हैं
कवि दीपक बवेजा
*सुनकर खबर आँखों से आँसू बह रहे*
*सुनकर खबर आँखों से आँसू बह रहे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जीना है तो ज़माने के रंग में रंगना पड़ेगा,
जीना है तो ज़माने के रंग में रंगना पड़ेगा,
_सुलेखा.
दुआ
दुआ
Dr Parveen Thakur
रंग मे रंगोली मे गीत मे बोली
रंग मे रंगोली मे गीत मे बोली
Vindhya Prakash Mishra
मां
मां
KAPOOR IQABAL
Loading...