Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Apr 2024 · 1 min read

बारम्बार प्रणाम

#दिनांक:-14/4/2024
#शीर्षक:-बारम्बार प्रणाम।

चौदह अप्रैल का दिन विशेष,
प्रकट हुए दलितों के अशेष।
छुआछूत की दुर्गम राह,
पहचाना अन्तर्निहित निमेष।

हर मजहब से उठकर,
धर्म जातिवाद में तैरकर,
जो है महान संविधान,
रातदिन मेहनत से रचकर ।

भोग विलास को ठुकराने वाले,
जांति पर आवाज उठाने वाले।
विधिवेत्ता,अर्थशास्त्री,समाज-सुधारक ,
बुद्ध का अनुकरण जीवन में करने वाले ।

अपना खुद पथप्रदर्शक बन चलते रहे,
विरोधियों को प्रेम से चलना सिखाते रहे।
ऐसे कर्मठ कर्मवीर को शत शत नमन,
अनमोल दीपक देश में अनवरत जलते रहे।

दलित घर-आंगन की भीरु है शान,
विश्वस्तरीय भारतीय संसद का अभिमान।
अमर हुआ दलित समाज सुधारक एक नाम ,
भीमराव बाबा साहेब को बारम्बार प्रणाम ।

(स्वरचित)
प्रतिभा पाण्डेय “प्रति”
चेन्नई

Language: Hindi
1 Like · 28 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
थोड़ा प्रयास कर समस्या का समाधान स्वयं ढ़ुंढ़ लेने से समस्या
थोड़ा प्रयास कर समस्या का समाधान स्वयं ढ़ुंढ़ लेने से समस्या
Paras Nath Jha
ईमेल आपके मस्तिष्क की लिंक है और उस मोबाइल की हिस्ट्री आपके
ईमेल आपके मस्तिष्क की लिंक है और उस मोबाइल की हिस्ट्री आपके
Rj Anand Prajapati
सच
सच
Sanjay ' शून्य'
दम उलझता है
दम उलझता है
Dr fauzia Naseem shad
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
चाँद से बातचीत
चाँद से बातचीत
मनोज कर्ण
दिल
दिल
Dr Archana Gupta
एक लम्हा है ज़िन्दगी,
एक लम्हा है ज़िन्दगी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"मुकाबिल"
Dr. Kishan tandon kranti
* करता बाइक से सफर, पूरा घर-परिवार【कुंडलिया】*
* करता बाइक से सफर, पूरा घर-परिवार【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
मेरी प्रीत जुड़ी है तुझ से
मेरी प्रीत जुड़ी है तुझ से
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
ये चिल्ले जाड़े के दिन / MUSAFIR BAITHA
ये चिल्ले जाड़े के दिन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
भारत का लाल
भारत का लाल
Aman Sinha
सिलसिला
सिलसिला
Ramswaroop Dinkar
जो समझदारी से जीता है, वह जीत होती है।
जो समझदारी से जीता है, वह जीत होती है।
Sidhartha Mishra
कृष्ण चतुर्थी भाद्रपद, है गणेशावतार
कृष्ण चतुर्थी भाद्रपद, है गणेशावतार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"" मामेकं शरणं व्रज ""
सुनीलानंद महंत
मंजिल की तलाश में
मंजिल की तलाश में
Praveen Sain
ग़ज़ल/नज़्म - मेरे महबूब के दीदार में बहार बहुत हैं
ग़ज़ल/नज़्म - मेरे महबूब के दीदार में बहार बहुत हैं
अनिल कुमार
छोड़ दिया किनारा
छोड़ दिया किनारा
Kshma Urmila
सियासत में
सियासत में
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
दहेज.... हमारी जरूरत
दहेज.... हमारी जरूरत
Neeraj Agarwal
অরাজক সহিংসতা
অরাজক সহিংসতা
Otteri Selvakumar
माँ शारदे
माँ शारदे
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अगर महोब्बत बेपनाह हो किसी से
अगर महोब्बत बेपनाह हो किसी से
शेखर सिंह
अर्थ में,अनर्थ में अंतर बहुत है
अर्थ में,अनर्थ में अंतर बहुत है
Shweta Soni
वृक्षारोपण का अर्थ केवल पौधे को रोपित करना ही नहीं बल्कि उसक
वृक्षारोपण का अर्थ केवल पौधे को रोपित करना ही नहीं बल्कि उसक
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
बनारस की ढलती शाम,
बनारस की ढलती शाम,
Sahil Ahmad
चार पैसे भी नही....
चार पैसे भी नही....
Vijay kumar Pandey
जय हो कल्याणी माँ 🙏
जय हो कल्याणी माँ 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...