Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

बाबूजी! आती याद

बाबूजी! आपके जाने के बाद
आती याद,
वो बचपन की बातें
सुबह जब जगाते,
पहले देह दबाते,
बालों में उँगलियाँ फिराते
फिर धीरे से जगाते।
आती याद,
होता साथ-साथ;
खाना-पीना-सोना,
एक साथ तैयार होकर
मैं स्कूल और आपका कचहरी जाना,
फिर जाते वक्त
‘विश यू गुड डे’ का आशीर्वाद पाना।
आती याद,
आपका बिस्तर पकड़ना,
मेरा ऑफिस जाने वक्त
जल्दी आने के वादे के साथ
विदा करना,
आपकी अंतिम घड़ी;
मैं कॉरोना से पीड़ित बेबस दूर खड़ा,
आपका पास बुलाते-बुलाते
सदा के लिए गुम हो जाना।
बाबूजी! आती याद….
श्री रमण
बेगूसराय

12 Likes · 18 Comments · 408 Views
You may also like:
दया करो भगवान
Buddha Prakash
बड़ी मुश्किल से खुद को संभाल रखे है,
Vaishnavi Gupta
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिता
Satpallm1978 Chauhan
अरदास
Buddha Prakash
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
टोकरी में छोकरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
इज़हार-ए-इश्क 2
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ज़िंदगी से सवाल
Dr fauzia Naseem shad
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
आ ख़्वाब बन के आजा
Dr fauzia Naseem shad
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण 'श्रीपद्'
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
रफ्तार
Anamika Singh
जीवन की दुर्दशा
Dr fauzia Naseem shad
इज़हार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बे'बसी हमको चुप करा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
समय को भी तलाश है ।
Abhishek Pandey Abhi
पिता
Aruna Dogra Sharma
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
कर्म का मर्म
Pooja Singh
मोर के मुकुट वारो
शेख़ जाफ़र खान
क्यों भूख से रोटी का रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
Loading...