Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 May 2022 · 1 min read

बाबूजी! आती याद

बाबूजी! आपके जाने के बाद
आती याद,
वो बचपन की बातें
सुबह जब जगाते,
पहले देह दबाते,
बालों में उँगलियाँ फिराते
फिर धीरे से जगाते।
आती याद,
होता साथ-साथ;
खाना-पीना-सोना,
एक साथ तैयार होकर
मैं स्कूल और आपका कचहरी जाना,
फिर जाते वक्त
‘विश यू गुड डे’ का आशीर्वाद पाना।
आती याद,
आपका बिस्तर पकड़ना,
मेरा ऑफिस जाने वक्त
जल्दी आने के वादे के साथ
विदा करना,
आपकी अंतिम घड़ी;
मैं कॉरोना से पीड़ित बेबस दूर खड़ा,
आपका पास बुलाते-बुलाते
सदा के लिए गुम हो जाना।
बाबूजी! आती याद….
श्री रमण
बेगूसराय

12 Likes · 20 Comments · 776 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
View all
You may also like:
पत्नी
पत्नी
Acharya Rama Nand Mandal
अपनी अपनी सोच
अपनी अपनी सोच
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
"समय का महत्व"
Yogendra Chaturwedi
चंद सिक्कों की खातिर
चंद सिक्कों की खातिर
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
2718.*पूर्णिका*
2718.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
😊ख़ुद के हवाले से....
😊ख़ुद के हवाले से....
*Author प्रणय प्रभात*
सुशांत देश (पंचचामर छंद)
सुशांत देश (पंचचामर छंद)
Rambali Mishra
क्रांतिकारी विरसा मुंडा
क्रांतिकारी विरसा मुंडा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"मुश्किल वक़्त और दोस्त"
Lohit Tamta
नौकरी (२)
नौकरी (२)
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
नादानी
नादानी
Shaily
औकात
औकात
Dr.Priya Soni Khare
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अंजाम
अंजाम
Bodhisatva kastooriya
रंगीला बचपन
रंगीला बचपन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दिल का रोग
दिल का रोग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
यह क्या अजीब ही घोटाला है,
यह क्या अजीब ही घोटाला है,
नव लेखिका
तेरे गम का सफर
तेरे गम का सफर
Rajeev Dutta
अपात्रता और कार्तव्यहीनता ही मनुष्य को धार्मिक बनाती है।
अपात्रता और कार्तव्यहीनता ही मनुष्य को धार्मिक बनाती है।
Dr MusafiR BaithA
तुम्हारा प्यार अब मिलता नहीं है।
तुम्हारा प्यार अब मिलता नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
"बाल-मन"
Dr. Kishan tandon kranti
मुक्तक
मुक्तक
Rajesh Tiwari
हेेे जो मेरे पास
हेेे जो मेरे पास
Swami Ganganiya
*तजकिरातुल वाकियात* (पुस्तक समीक्षा )
*तजकिरातुल वाकियात* (पुस्तक समीक्षा )
Ravi Prakash
💐Prodigy Love-28💐
💐Prodigy Love-28💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ख्वाबों में मेरे इस तरह न आया करो
ख्वाबों में मेरे इस तरह न आया करो
Ram Krishan Rastogi
नफ़रत की सियासत
नफ़रत की सियासत
Shekhar Chandra Mitra
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह "reading between the lines" लिखा है
SHAILESH MOHAN
केहिकी करैं बुराई भइया,
केहिकी करैं बुराई भइया,
Kaushal Kumar Pandey आस
इस जग में हैं हम सब साथी
इस जग में हैं हम सब साथी
Suryakant Dwivedi
Loading...