Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2017 · 1 min read

बाप की नीचता

संसार का नियम है, की परिवर्तन होना जरूरी है, पर आजकल जो घटना घटित हो रही हैं, उस ने हर परिवर्तन को झकझोर दिया है, एक बाप का बेटी के प्रति जो सम्मान होना चाहिए, जिस को इतने नाजों के साथ पाला पोसा जाता है, और कितने ही अरमान एक बाप के दिल के अंदर होते है, कि मेरी बेटी बड़ी होकर मेरा नाम रोशन करेगी, और शादी होने के बाद मेरे घर का नाम भी रोशन करेगी.न जाने क्या क्या सोचता है इंसान…पर आज कल की जो घटना हुई उस ने बाप नाम के शब्द को कलंकित कर दिया , सारी मरियादाओं का हनन कर के रख दिया, क्या इतनी घिनोनी सोच भी हो सकती है एक बाप की..आज तक दुनिया में बलात्कार की घटनाये जिस प्रकार बढ़ रही हैं,.बस इस घटना ने उन सब को इतना पीछे छोड़ दिया है, कि वो सब बेकार लगने लग गयी हैं..जिस बाप ने यह काम किया है,..अगर वो मेरे इन शब्दों को पढ़ ले तो जल्दी जाकर किसी ट्रेन के नीचे अपना सर रख कर अपने को खत्म कर ले..अन्यथा जहाँ कहीं भी वो नजर आएगा…शायद बचना मुश्किल होगा उस का…

मैं कड़े शब्दों में इस करतूत की घोर निंदा करता हूँ…

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Language: Hindi
Tag: लेख
270 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
उससे तू ना कर, बात ऐसी कभी अब
उससे तू ना कर, बात ऐसी कभी अब
gurudeenverma198
कहीं खूबियां में भी खामियां निकाली जाती है, वहीं कहीं  कमियो
कहीं खूबियां में भी खामियां निकाली जाती है, वहीं कहीं कमियो
Ragini Kumari
कामयाबी का जाम।
कामयाबी का जाम।
Rj Anand Prajapati
" वाई फाई में बसी सबकी जान "
Dr Meenu Poonia
*सबको बुढापा आ रहा, सबकी जवानी ढल रही (हिंदी गजल)*
*सबको बुढापा आ रहा, सबकी जवानी ढल रही (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
😢हे माँ माताजी😢
😢हे माँ माताजी😢
*प्रणय प्रभात*
''आशा' के मुक्तक
''आशा' के मुक्तक"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
The Saga Of That Unforgettable Pain
The Saga Of That Unforgettable Pain
Manisha Manjari
"दीया और तूफान"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रहरी नित जागता है
प्रहरी नित जागता है
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
"हार व जीत तो वीरों के भाग्य में होती है लेकिन हार के भय से
डॉ कुलदीपसिंह सिसोदिया कुंदन
एक आज़ाद परिंदा
एक आज़ाद परिंदा
Shekhar Chandra Mitra
*दोस्त*
*दोस्त*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आप और जीवन के सच
आप और जीवन के सच
Neeraj Agarwal
राहों में खिंची हर लकीर बदल सकती है ।
राहों में खिंची हर लकीर बदल सकती है ।
Phool gufran
हयात कैसे कैसे गुल खिला गई
हयात कैसे कैसे गुल खिला गई
Shivkumar Bilagrami
*देखो मन में हलचल लेकर*
*देखो मन में हलचल लेकर*
Dr. Priya Gupta
स्वयं पर विश्वास
स्वयं पर विश्वास
Dr fauzia Naseem shad
हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,
हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
बेमतलब सा तू मेरा‌, और‌ मैं हर मतलब से सिर्फ तेरी
बेमतलब सा तू मेरा‌, और‌ मैं हर मतलब से सिर्फ तेरी
Minakshi
सफ़र है बाकी (संघर्ष की कविता)
सफ़र है बाकी (संघर्ष की कविता)
Dr. Kishan Karigar
घर आ जाओ अब महारानी (उपालंभ गीत)
घर आ जाओ अब महारानी (उपालंभ गीत)
गुमनाम 'बाबा'
जीवन पुष्प की बगिया
जीवन पुष्प की बगिया
Buddha Prakash
रामायण में हनुमान जी को संजीवनी बुटी लाते देख
रामायण में हनुमान जी को संजीवनी बुटी लाते देख
शेखर सिंह
ग़ज़ल कहूँ तो मैं ‘असद’, मुझमे बसते ‘मीर’
ग़ज़ल कहूँ तो मैं ‘असद’, मुझमे बसते ‘मीर’
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
3288.*पूर्णिका*
3288.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
★
पूर्वार्थ
मसल कर कली को
मसल कर कली को
Pratibha Pandey
मेरे सब्र की इंतहां न ले !
मेरे सब्र की इंतहां न ले !
ओसमणी साहू 'ओश'
Shayari
Shayari
Sahil Ahmad
Loading...