Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2023 · 1 min read

बापू की पुण्य तिथि पर

बापू तुम्हारी पुण्यतुथिं पर तुमको क्या मै बताऊं।
आज तिरंगा रो रहा है किस किस को मै समझाऊं ।।

नाम किसानों का लेकर ये झंडा खालिस्तानी फहराते।
शोरगुल व तोड़ फोड़ कर अपनी बाते मनवाना चाहते।

अब तो तुम्हारे तीनों बंदर भी गूंगे बहरे अंधे हो गए है,
सत्य अहिंसा का मार्ग छोड़कर, मस्त कलंदर हो गए हैं।

शायद तुम होते अब भारत में, कुछ नहीं तुम कर पाते ।
तुम्हारी लाठी चश्मा व लंगोटी को छीन कर ले जाते।

आज भारत में एक बार फिर तुम इनको को समझाओ,
समझ सकते नहीं तुम्हारी बातें तो इनको साथ ले जाओ।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 334 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
“कवि की कविता”
“कवि की कविता”
DrLakshman Jha Parimal
सर्द हवाओं का मौसम
सर्द हवाओं का मौसम
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
पुस्तक समीक्षा -राना लिधौरी गौरव ग्रंथ
पुस्तक समीक्षा -राना लिधौरी गौरव ग्रंथ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
गरीब
गरीब
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
' मौन इक सँवाद '
' मौन इक सँवाद '
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
तू जब भी साथ होती है तो मेरा ध्यान लगता है
तू जब भी साथ होती है तो मेरा ध्यान लगता है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
सुध जरा इनकी भी ले लो ?
सुध जरा इनकी भी ले लो ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कोई हंस रहा है कोई रो रहा है 【निर्गुण भजन】
कोई हंस रहा है कोई रो रहा है 【निर्गुण भजन】
Khaimsingh Saini
पुरानी खंडहरों के वो नए लिबास अब रात भर जगाते हैं,
पुरानी खंडहरों के वो नए लिबास अब रात भर जगाते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
प्रीति क्या है मुझे तुम बताओ जरा
प्रीति क्या है मुझे तुम बताओ जरा
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
कलियों सा तुम्हारा यौवन खिला है।
कलियों सा तुम्हारा यौवन खिला है।
Rj Anand Prajapati
*हमेशा साथ में आशीष, सौ लाती बुआऍं हैं (हिंदी गजल)*
*हमेशा साथ में आशीष, सौ लाती बुआऍं हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
2833. *पूर्णिका*
2833. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दिल में दबे कुछ एहसास है....
दिल में दबे कुछ एहसास है....
Harminder Kaur
सरपरस्त
सरपरस्त
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
मुझे तुमसे प्यार हो गया,
मुझे तुमसे प्यार हो गया,
Dr. Man Mohan Krishna
You are the sanctuary of my soul.
You are the sanctuary of my soul.
Manisha Manjari
All of a sudden, everything feels unfair. You pour yourself
All of a sudden, everything feels unfair. You pour yourself
पूर्वार्थ
पंखों को मेरे उड़ान दे दो
पंखों को मेरे उड़ान दे दो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ମଣିଷ ଠାରୁ ଅଧିକ
ମଣିଷ ଠାରୁ ଅଧିକ
Otteri Selvakumar
■ प्रभात वंदन....
■ प्रभात वंदन....
*Author प्रणय प्रभात*
* सताना नहीं *
* सताना नहीं *
surenderpal vaidya
विजय या मन की हार
विजय या मन की हार
Satish Srijan
जगदाधार सत्य
जगदाधार सत्य
महेश चन्द्र त्रिपाठी
दुनिया की कोई दौलत
दुनिया की कोई दौलत
Dr fauzia Naseem shad
दोहा त्रयी. . . . .
दोहा त्रयी. . . . .
sushil sarna
इंसानियत
इंसानियत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वक़्त ने किया है अनगिनत सवाल तपते...
वक़्त ने किया है अनगिनत सवाल तपते...
सिद्धार्थ गोरखपुरी
लिट्टी छोला
लिट्टी छोला
आकाश महेशपुरी
"दलबदलू"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...