Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jul 2016 · 1 min read

बादल

बादल कोई मेरे शहर मे भी तो बरस जाए ।
प्यासे है खेत , जोर-शोर से तो गरज जाए ।।

माना कि तुम उमड़-घुमड़ कर आते-जाते हो ।
ताके रस्ता इन निगाहों पे भी तो तरस खाए ।।

सुमन कुमार आहूजा अनाड़ी

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
377 Views
You may also like:
मैं बेटी हूँ
लक्ष्मी सिंह
भारत के बुद्धिजीवी
Shekhar Chandra Mitra
ये वो नहीं है .....!
Buddha Prakash
मुक्तक
Dr Archana Gupta
पश्चाताप
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पिता
पूनम झा 'प्रथमा'
गुमनाम ही रहने दो
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️✍️ओढ✍️✍️
'अशांत' शेखर
#क्या_पता_मैं_शून्य_हो_जाऊं
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
🌈🌸तुम ख़्वाब बन गए हो🌸🌈
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सावन में एक नारी की अभिलाषा
Ram Krishan Rastogi
महताब ने भी मुंह फेर लिया है।
Taj Mohammad
*दशहरे पर मछली देखने की परंपरा*
Ravi Prakash
"मातल "
DrLakshman Jha Parimal
दुर्योधन कब मिट पाया :भाग:40
AJAY AMITABH SUMAN
कभी न होते आम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सौदागर
पीयूष धामी
गीता के स्वर (1) कशमकश
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
ब्रह्म निर्णय
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गवाह है
shabina. Naaz
कबीर साहेब की शिक्षाएं
vikash Kumar Nidan
ग़म की ऐसी रवानी....
अश्क चिरैयाकोटी
जून की दोपहर (कविता)
Kanchan Khanna
सहरा से नदी मिल गई
अरशद रसूल /Arshad Rasool
भली बातें
Dr. Sunita Singh
'भारत की प्रथम नागरिक'
Godambari Negi
ग़ज़ल-धीरे-धीरे
Sanjay Grover
आज का विकास या भविष्य की चिंता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
जवाब दे न सके
Dr fauzia Naseem shad
गौरैया बोली मुझे बचाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...