Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Oct 2023 · 1 min read

#बात_बेबात-

#बात_बेबात-
■ एक सटीक संवाद…।
【प्रणय प्रभात】
● धूर्त नेता हुशियारी लाल का सवाल था-
“आपने मेरा क्या भला किया…..?”
● मेरा सीधा-सरल सा जवाब था-
“बुरा नहीं किया। आए दिन दस मौके हाथ आने के बाद भी।”
मतलब साफ है। “असहयोग व अपमान” न करना भी “सहयोग व सम्मान” करने जैसा ही होता है प्यारे! आज की दुनिया में। आई बात समझ मे…?
कहने का आशय है कि यही ढंग जीवन का मध्यमार्ग है, जिसे हम तटस्थता भी कह सकते हैं। दुनिया को इस तटस्थता को न केवल सम्मान करना चाहिए, बल्कि ऐसे लोगों के प्रति कृतज्ञ भी होना चाहिए। यही मंत्र है जिसके बलबूते हमारा देश “गुट निरपेक्ष” रह कर “विश्व-बंधुत्व” का संदेश सारी दुनिया को दे रहा है और सम्मान पा रहा है।
#जय रामजी की।।
■प्रणय प्रभात■
●संपादक/न्यूज़&व्यूज़●
श्योपुर (मध्यप्रदेश)

1 Like · 102 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दोहा-प्रहार
दोहा-प्रहार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मार गई मंहगाई कैसे होगी पढ़ाई🙏🙏
मार गई मंहगाई कैसे होगी पढ़ाई🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कल चाँद की आँखों से तन्हा अश्क़ निकल रहा था
कल चाँद की आँखों से तन्हा अश्क़ निकल रहा था
'अशांत' शेखर
बड़ा हिज्र -हिज्र करता है तू ,
बड़ा हिज्र -हिज्र करता है तू ,
Rohit yadav
वोटर की पॉलिटिक्स
वोटर की पॉलिटिक्स
Dr. Pradeep Kumar Sharma
राह तक रहे हैं नयना
राह तक रहे हैं नयना
Ashwani Kumar Jaiswal
*छाया कैसा  नशा है कैसा ये जादू*
*छाया कैसा नशा है कैसा ये जादू*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
पहले की भारतीय सेना
पहले की भारतीय सेना
Satish Srijan
तो मेरे साथ चलो।
तो मेरे साथ चलो।
Manisha Manjari
क्रेडिट कार्ड
क्रेडिट कार्ड
Sandeep Pande
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"नवरात्रि पर्व"
Pushpraj Anant
23/91.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/91.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
"लिख और दिख"
Dr. Kishan tandon kranti
"ऊँची ऊँची परवाज़ - Flying High"
Sidhartha Mishra
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
*पानी व्यर्थ न गंवाओ*
*पानी व्यर्थ न गंवाओ*
Dushyant Kumar
होली -रमजान ,दीवाली
होली -रमजान ,दीवाली
DrLakshman Jha Parimal
सर्दी में जलती हुई आग लगती हो
सर्दी में जलती हुई आग लगती हो
Jitendra Chhonkar
अंग अंग में मारे रमाय गयो
अंग अंग में मारे रमाय गयो
Sonu sugandh
आज आंखों में
आज आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
सच्ची  मौत
सच्ची मौत
sushil sarna
I love you
I love you
Otteri Selvakumar
*याद आते हैं ब्लैक में टिकट मिलने के वह दिन 【 हास्य-व्यंग्य
*याद आते हैं ब्लैक में टिकट मिलने के वह दिन 【 हास्य-व्यंग्य
Ravi Prakash
विकल्प
विकल्प
Sanjay ' शून्य'
युक्रेन और रूस ; संगीत
युक्रेन और रूस ; संगीत
कवि अनिल कुमार पँचोली
🌹लफ्ज़ों का खेल🌹
🌹लफ्ज़ों का खेल🌹
Dr Shweta sood
जब किसी बज़्म तेरी बात आई ।
जब किसी बज़्म तेरी बात आई ।
Neelam Sharma
"मेरे नाम की जय-जयकार करने से अच्‍छा है,
शेखर सिंह
Loading...