Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jul 2023 · 1 min read

*बात-बात में बात (दस दोहे)*

बात-बात में बात (दस दोहे)
_________________________
(1)
सरपट दौड़ी चल पड़ी, बात-बात में बात
फिर मुद्दे से हट गई, बहकी सारी रात
(2)
जिह्वा को काबू रखो, मुख पर रखो लगाम
बात बतूनी है बहुत, करती काम तमाम
(3)
लिखने की कीमत बड़ी, बातों का क्या मोल
कागज पर जो लिख गया, सदियॉं करतीं तोल
(4)
बातों में बातें छिड़ीं, बात-बात का जोर
बातों की महिमा बड़ी, हुई रात से भोर
(5)
इंची-भर की बात थी, गज-भर फैली चीर
लंबी बातें यों हुईं, सब बातों के वीर
(6)
हल्की बातें कह गए, भारी पद के लोग
इसके पीछे क्या पता, किसका क्या उद्योग
(7)
बात कहॉं से थी शुरू, चली दौड़ घनघोर
बातों का अब देखिए, कोई ओर न छोर
(8)
बातें करिए सोच कर, दीवारों के कान
भेद छुपा अब कब रहा, बातों से पहचान
(9)
पंच सदा बातें करें, समझ-सोचकर धीर
भारी-भरकम चाहिए, शब्द-शब्द गंभीर
(10)
नेता जी सबको पता, होते भाषणबाज
भूलेंगे कल जो कहा, भाषण में है आज
_________________________
रचयिता:रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

Language: Hindi
285 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
ایک سفر مجھ میں رواں ہے کب سے
ایک سفر مجھ میں رواں ہے کب سے
Simmy Hasan
दो रंगों में दिखती दुनिया
दो रंगों में दिखती दुनिया
कवि दीपक बवेजा
फूल
फूल
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
औरत
औरत
Shweta Soni
सावन बीत गया
सावन बीत गया
Suryakant Dwivedi
उठ जाग मेरे मानस
उठ जाग मेरे मानस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कब रात बीत जाती है
कब रात बीत जाती है
Madhuyanka Raj
अबस ही डर रहा था अब तलक मैं
अबस ही डर रहा था अब तलक मैं
Neeraj Naveed
*Lesser expectations*
*Lesser expectations*
Poonam Matia
चलो
चलो
हिमांशु Kulshrestha
जुनून
जुनून
अखिलेश 'अखिल'
जिसके पास क्रोध है,
जिसके पास क्रोध है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बढ़ता कदम बढ़ाता भारत
बढ़ता कदम बढ़ाता भारत
AMRESH KUMAR VERMA
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मै कैसे
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मै कैसे
Ram Krishan Rastogi
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जीवन उद्देश्य
जीवन उद्देश्य
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
हसरतें पाल लो, चाहे जितनी, कोई बंदिश थोड़े है,
हसरतें पाल लो, चाहे जितनी, कोई बंदिश थोड़े है,
Mahender Singh
दुख के दो अर्थ हो सकते हैं
दुख के दो अर्थ हो सकते हैं
Harminder Kaur
प्रेम
प्रेम
Dinesh Kumar Gangwar
जीवन का जीवन
जीवन का जीवन
Dr fauzia Naseem shad
"मेरा कहना है"
Dr. Kishan tandon kranti
नृत्य दिवस विशेष (दोहे)
नृत्य दिवस विशेष (दोहे)
Radha Iyer Rads/राधा अय्यर 'कस्तूरी'
हो गया जो दीदार तेरा, अब क्या चाहे यह दिल मेरा...!!!
हो गया जो दीदार तेरा, अब क्या चाहे यह दिल मेरा...!!!
AVINASH (Avi...) MEHRA
कहीं चीखें मौहब्बत की सुनाई देंगी तुमको ।
कहीं चीखें मौहब्बत की सुनाई देंगी तुमको ।
Phool gufran
वो भ्रम है वास्तविकता नहीं है
वो भ्रम है वास्तविकता नहीं है
Keshav kishor Kumar
समय की नाड़ी पर
समय की नाड़ी पर
*प्रणय प्रभात*
आग और पानी 🙏
आग और पानी 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दिल की पुकार है _
दिल की पुकार है _
Rajesh vyas
उज्जैन घटना
उज्जैन घटना
Rahul Singh
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...