Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jun 2016 · 1 min read

बात न पूछ

मेरे दिल की बात न पूछ,
कैसे हैं हालात न पूछ।

बिन तेरे गुजरे हैं कैसे,
दिलबर दिन और रात न पूछ।

छोड़ गया जब से हरजाई,
नैनो की बरसात न पूछ।

दिल टूटा है यारों जिनका,
उनसे दिल की बात न पूछ।

साजन जिनके दूर गये हों,
उनके क्या हालात न पूछ।

इश्क़ खुदा की नेमत है तो,
फिर दिलवर की जात न पूछ।

क़ुदरत ने बख़्शी है क्या क्या,
इंसां को सौगात न पूछ।

कुदरत ही जिसकी हमदम हो,
उसकी क्या औकात न पूछ।

आज मिलन की शुभ बेला है,
कल की कोई बात न पूछ।
—–मिलन.

306 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
3164.*पूर्णिका*
3164.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
-शेखर सिंह
-शेखर सिंह
शेखर सिंह
वक्त इतना बदल गया है क्युँ
वक्त इतना बदल गया है क्युँ
Shweta Soni
हे पैमाना पुराना
हे पैमाना पुराना
Swami Ganganiya
मूकनायक
मूकनायक
मनोज कर्ण
जब कोई साथ नहीं जाएगा
जब कोई साथ नहीं जाएगा
KAJAL NAGAR
तो मेरा नाम नही//
तो मेरा नाम नही//
गुप्तरत्न
जाती नहीं है क्यों, तेरी याद दिल से
जाती नहीं है क्यों, तेरी याद दिल से
gurudeenverma198
प्रकृति भी तो शांत मुस्कुराती रहती है
प्रकृति भी तो शांत मुस्कुराती रहती है
ruby kumari
"विश्ववन्दनीय"
Dr. Kishan tandon kranti
याद हो बस तुझे
याद हो बस तुझे
Dr fauzia Naseem shad
उल्लू नहीं है पब्लिक जो तुम उल्लू बनाते हो, बोल-बोल कर अपना खिल्ली उड़ाते हो।
उल्लू नहीं है पब्लिक जो तुम उल्लू बनाते हो, बोल-बोल कर अपना खिल्ली उड़ाते हो।
Anand Kumar
ज़िंदगी उससे है मेरी, वो मेरा दिलबर रहे।
ज़िंदगी उससे है मेरी, वो मेरा दिलबर रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
जय बोलो मानवता की🙏
जय बोलो मानवता की🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सत्य कहाँ ?
सत्य कहाँ ?
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
बाल कविता: तोता
बाल कविता: तोता
Rajesh Kumar Arjun
श्री भूकन शरण आर्य
श्री भूकन शरण आर्य
Ravi Prakash
कूल नानी
कूल नानी
Neelam Sharma
हिंदी दोहा शब्द - भेद
हिंदी दोहा शब्द - भेद
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
पापा
पापा
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
अभिरुचि
अभिरुचि
Shyam Sundar Subramanian
फितरत कभी नहीं बदलती
फितरत कभी नहीं बदलती
Madhavi Srivastava
बरसात...
बरसात...
डॉ.सीमा अग्रवाल
दाता
दाता
Sanjay ' शून्य'
■ जिसे जो समझना समझता रहे।
■ जिसे जो समझना समझता रहे।
*Author प्रणय प्रभात*
वर्तमान सरकारों ने पुरातन ,
वर्तमान सरकारों ने पुरातन ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
पड़ जाएँ मिरे जिस्म पे लाख़ आबले 'अकबर'
पड़ जाएँ मिरे जिस्म पे लाख़ आबले 'अकबर'
Dr Tabassum Jahan
चाय पे चर्चा
चाय पे चर्चा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
किसी को उदास पाकर
किसी को उदास पाकर
Shekhar Chandra Mitra
सच में शक्ति अकूत
सच में शक्ति अकूत
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...