Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jan 2024 · 1 min read

बात क्या है कुछ बताओ।

गज़ल-

2122/2122
बात क्या है कुछ बताओ।
इस तरह से मत सताओ।1

हम भी कहना चाहते कुछ,
पहले तुम अपनी सुनाओ।2

पल खुशी के याद रखना,
दर्द गम सब भूल जाओ।3

दूरियों से कुछ न हासिल,
और थोड़ा पास आओ।4

एक सुर में गुनगुनाएं,
मिल के कोई गीत गाओ।5

देश हित सबसे जरूरी,
वो नहीं जो तुम बताओ।6

प्रेम की वीणा से प्रेमी,
प्यार की इक धुन बजाओ।7

……✍️ सत्य कुमार प्रेमी

Language: Hindi
61 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भले दिनों की बात
भले दिनों की बात
Sahil Ahmad
पत्थर का सफ़ीना भी, तैरता रहेगा अगर,
पत्थर का सफ़ीना भी, तैरता रहेगा अगर,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
समंदर में नदी की तरह ये मिलने नहीं जाता
समंदर में नदी की तरह ये मिलने नहीं जाता
Johnny Ahmed 'क़ैस'
कदमों में बिखर जाए।
कदमों में बिखर जाए।
लक्ष्मी सिंह
चयन
चयन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बाल कविता: भालू की सगाई
बाल कविता: भालू की सगाई
Rajesh Kumar Arjun
ग़ज़ल/नज़्म - मुझे दुश्मनों की गलियों में रहना पसन्द आता है
ग़ज़ल/नज़्म - मुझे दुश्मनों की गलियों में रहना पसन्द आता है
अनिल कुमार
डॉ अरुण कुमार शास्त्री -
डॉ अरुण कुमार शास्त्री -
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मत रो लाल
मत रो लाल
Shekhar Chandra Mitra
क्या हिसाब दूँ
क्या हिसाब दूँ
हिमांशु Kulshrestha
"इस रोड के जैसे ही _
Rajesh vyas
दुनिया से सीखा
दुनिया से सीखा
Surinder blackpen
दोस्ती का तराना
दोस्ती का तराना
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
वफ़ाओं का सिला कोई नहीं
वफ़ाओं का सिला कोई नहीं
अरशद रसूल बदायूंनी
* फागुन की मस्ती *
* फागुन की मस्ती *
surenderpal vaidya
2526.पूर्णिका
2526.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दोस्तों की महफिल में वो इस कदर खो गए ,
दोस्तों की महफिल में वो इस कदर खो गए ,
Yogendra Chaturwedi
*डुबकी में निष्णात, लौट आता ज्यों बिस्कुट(कुंडलिया)*
*डुबकी में निष्णात, लौट आता ज्यों बिस्कुट(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
गजब गांव
गजब गांव
Sanjay ' शून्य'
** फितरत **
** फितरत **
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
हम
हम
Dr. Kishan tandon kranti
वक़्त हमें लोगो की पहचान करा देता है
वक़्त हमें लोगो की पहचान करा देता है
Dr. Upasana Pandey
हिन्दी दोहा बिषय-जगत
हिन्दी दोहा बिषय-जगत
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जब भी
जब भी
Dr fauzia Naseem shad
जीवन के हर युद्ध को,
जीवन के हर युद्ध को,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
How do you want to be loved?
How do you want to be loved?
पूर्वार्थ
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
Rj Anand Prajapati
#2024
#2024
*Author प्रणय प्रभात*
"चांद पे तिरंगा"
राकेश चौरसिया
Loading...