Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 May 2024 · 1 min read

बह्र 2212 122 मुसतफ़इलुन फ़ऊलुन काफ़िया -आ रदीफ़ -रहा है

गिरह
चाहत की बानगी से
अपना बना रहा है।
१) देखो वो जा रहा है।
झगड़ा मिटा रहा है।
२) वादा किया जो उसने
पूरा निभा रहा है।
३) हाथों से ख़ुद ही अपनी
मय्यत सजा रहा है।
४) तेरी ही नज़्म नग़में
वो गुनगुना रहा है।
५) ये कौन फिर से ‘नीलम’
दर खटखटा रहा है।
नीलम शर्मा ✍️

2 Likes · 42 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिंदगी आंदोलन ही तो है
जिंदगी आंदोलन ही तो है
gurudeenverma198
आँशुओ ने कहा अब इस तरह बहा जाय
आँशुओ ने कहा अब इस तरह बहा जाय
Rituraj shivem verma
सुन्दरता।
सुन्दरता।
Anil Mishra Prahari
23/51.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/51.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मे कोई समस्या नहीं जिसका
मे कोई समस्या नहीं जिसका
Ranjeet kumar patre
न जल लाते हैं ये बादल(मुक्तक)
न जल लाते हैं ये बादल(मुक्तक)
Ravi Prakash
पात उगेंगे पुनः नये,
पात उगेंगे पुनः नये,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मंज़िल को पाने के लिए साथ
मंज़िल को पाने के लिए साथ
DrLakshman Jha Parimal
नन्हीं परी आई है
नन्हीं परी आई है
Mukesh Kumar Sonkar
सदपुरुष अपना कर्तव्य समझकर कर्म करता है और मूर्ख उसे अपना अध
सदपुरुष अपना कर्तव्य समझकर कर्म करता है और मूर्ख उसे अपना अध
Sanjay ' शून्य'
!! होली के दिन !!
!! होली के दिन !!
Chunnu Lal Gupta
🌸मन की भाषा 🌸
🌸मन की भाषा 🌸
Mahima shukla
मज़दूर
मज़दूर
Neelam Sharma
अमर्यादा
अमर्यादा
साहिल
जाग गया है हिन्दुस्तान
जाग गया है हिन्दुस्तान
Bodhisatva kastooriya
11. *सत्य की खोज*
11. *सत्य की खोज*
Dr .Shweta sood 'Madhu'
प्रयास
प्रयास
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मैं चल रहा था तन्हा अकेला
मैं चल रहा था तन्हा अकेला
..
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*प्रणय प्रभात*
दया समता समर्पण त्याग के आदर्श रघुनंदन।
दया समता समर्पण त्याग के आदर्श रघुनंदन।
जगदीश शर्मा सहज
खोकर अपनों को यह जाना।
खोकर अपनों को यह जाना।
लक्ष्मी सिंह
गीत
गीत
गुमनाम 'बाबा'
तुम्हीं रस्ता तुम्हीं मंज़िल
तुम्हीं रस्ता तुम्हीं मंज़िल
Monika Arora
सत्याग्रह और उग्रता
सत्याग्रह और उग्रता
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अधिकांश होते हैं गुमराह
अधिकांश होते हैं गुमराह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जिंदगी एडजस्टमेंट से ही चलती है / Vishnu Nagar
जिंदगी एडजस्टमेंट से ही चलती है / Vishnu Nagar
Dr MusafiR BaithA
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"जिंदगी"
नेताम आर सी
सब तो उधार का
सब तो उधार का
Jitendra kumar
पथ सहज नहीं रणधीर
पथ सहज नहीं रणधीर
Shravan singh
Loading...