Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 May 2024 · 1 min read

बह्र ## 2122 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन काफिया ## आ रदीफ़ ## कुछ और है

गिरह
इश्क़ से बढ़कर बताओ क्या सज़ा कुछ और है।
जिन्दगी में शायरी हो तो मज़ा कुछ और है ।
१)
साथ तेरे गुनगुनाने का मज़ा कुछ और है ।
बेसबब हँसने -हँसाने का मज़ा कुछ और है ।
२)
हो रहीं हैं अब सुकूंँ की बारिशे मेरे यहाँ,
हाल -ए -दिल ने सही जो वो सज़ा कुछ और है
३)
इश्क़ की महफ़िल सजी कुछ कह गए वो नज़्म में
पर निगाहें बोलतीं वो इल्तिज़ा कुछ और है।
४)
था मिलाया जिस ख़ुदा ने कर दिया उसने जुदा,
जानती हूँ उस ख़ुदा की अब रज़ा कुछ और है।
५)
क्या हुआ कुछ फासले ही तो बढ़े हैं दरमियां
जानती ‘नीलम’ मुहब्बत की अजा कुछ और है।
नीलम शर्मा ✍️
अजा-प्रकृति, शक्ति

1 Like · 44 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वक्त गर साथ देता
वक्त गर साथ देता
VINOD CHAUHAN
मेरे हाथों से छूट गई वो नाजुक सी डोर,
मेरे हाथों से छूट गई वो नाजुक सी डोर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
* काव्य रचना *
* काव्य रचना *
surenderpal vaidya
पद्मावती छंद
पद्मावती छंद
Subhash Singhai
अमर क्रन्तिकारी भगत सिंह
अमर क्रन्तिकारी भगत सिंह
कवि रमेशराज
सांता क्लॉज आया गिफ्ट लेकर
सांता क्लॉज आया गिफ्ट लेकर
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
क्यों तुमने?
क्यों तुमने?
Dr. Meenakshi Sharma
कोरोना संक्रमण
कोरोना संक्रमण
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
यादों के बादल
यादों के बादल
singh kunwar sarvendra vikram
मुर्दा समाज
मुर्दा समाज
Rekha Drolia
संगीत................... जीवन है
संगीत................... जीवन है
Neeraj Agarwal
"रुपया"
Dr. Kishan tandon kranti
आप जरा सा समझिए साहब
आप जरा सा समझिए साहब
शेखर सिंह
मईया कि महिमा
मईया कि महिमा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"" *वाङमयं तप उच्यते* '"
सुनीलानंद महंत
****शीतल प्रभा****
****शीतल प्रभा****
Kavita Chouhan
*पीला भी लो मिल गया, तरबूजों का रंग (कुंडलिया)*
*पीला भी लो मिल गया, तरबूजों का रंग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
!!  श्री गणेशाय् नम्ः  !!
!! श्री गणेशाय् नम्ः !!
Lokesh Sharma
क्या हुआ गर नहीं हुआ, पूरा कोई एक सपना
क्या हुआ गर नहीं हुआ, पूरा कोई एक सपना
gurudeenverma198
"मैं" एहसास ऐ!
Harminder Kaur
पिछले पन्ने 7
पिछले पन्ने 7
Paras Nath Jha
मदमस्त
मदमस्त "नीरो"
*प्रणय प्रभात*
अंदाज़े शायरी
अंदाज़े शायरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दोहा-
दोहा-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दूसरी दुनिया का कोई
दूसरी दुनिया का कोई
Dr fauzia Naseem shad
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
!! फूल चुनने वाले भी‌ !!
!! फूल चुनने वाले भी‌ !!
Chunnu Lal Gupta
3523.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3523.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
सेज सजायी मीत की,
सेज सजायी मीत की,
sushil sarna
Loading...