Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Mar 2023 · 1 min read

बहुत सहा है दर्द हमने।

हम पर हो करम इतना खुदाया कि जख्म भरने लगे।
बहुत सहा है दर्द हमने कि अब कुछ कम होने लगे।।1।।

तेरे हर दर पर जाकर दुआएं की है खुदाया हमनें।
भेज कोई शिफा जो जख्म पर मरहम बनके लगे।।2।।

तवक्को तूझसे ही है खुदा तू ही है हर मर्ज की दवा।
मिले तो हम बहुतों से पर तेरे सिवा सब बेरहम से मिले।।3।।

तू दरिया दिली का समंदर,सब कुछ है तेरे अंदर।
गर तू चाहे खुदा तो सेहरा भी गुलशन बनके महके।।4।।

किससे बताएं हम हाल दिल ए अपना इस जहां में।
जिससे भी ये दिल लगाया हमने वो सब बेवफा सनम निकले।।5।।

बड़ी मुहब्बतों से संवारा था हमने उन्हें जो पराए हुए।
रखा था ख्याल उनका जैसे बच्चा कोई शिकम में पले।।6।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

157 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Taj Mohammad
View all
You may also like:
मिलने वाले कभी मिलेंगें
मिलने वाले कभी मिलेंगें
Shweta Soni
वक्त गिरवी सा पड़ा है जिंदगी ( नवगीत)
वक्त गिरवी सा पड़ा है जिंदगी ( नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
तू खुद की इतनी तौहीन ना कर...
तू खुद की इतनी तौहीन ना कर...
Aarti sirsat
"गरीबों की दिवाली"
Yogendra Chaturwedi
बदलती हवाओं की परवाह ना कर रहगुजर
बदलती हवाओं की परवाह ना कर रहगुजर
VINOD CHAUHAN
हाय रे गर्मी
हाय रे गर्मी
अनिल "आदर्श"
आंखों की चमक ऐसी, बिजली सी चमकने दो।
आंखों की चमक ऐसी, बिजली सी चमकने दो।
सत्य कुमार प्रेमी
परित्यक्ता
परित्यक्ता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
गर्दिश में सितारा
गर्दिश में सितारा
Shekhar Chandra Mitra
*सपने कुछ देखो बड़े, मारो उच्च छलॉंग (कुंडलिया)*
*सपने कुछ देखो बड़े, मारो उच्च छलॉंग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
What Was in Me?
What Was in Me?
Bindesh kumar jha
स्तंभ बिन संविधान
स्तंभ बिन संविधान
Mahender Singh
हों कामयाबियों के किस्से कहाँ फिर...
हों कामयाबियों के किस्से कहाँ फिर...
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ऐ भाई - दीपक नीलपदम्
ऐ भाई - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
चेहरे पे चेहरा (ग़ज़ल – विनीत सिंह शायर)
चेहरे पे चेहरा (ग़ज़ल – विनीत सिंह शायर)
Vinit kumar
चुनाव 2024
चुनाव 2024
Bodhisatva kastooriya
तमाम उम्र काट दी है।
तमाम उम्र काट दी है।
Taj Mohammad
आचार, विचार, व्यवहार और विधि एक समान हैं तो रिश्ते जीवन से श
आचार, विचार, व्यवहार और विधि एक समान हैं तो रिश्ते जीवन से श
विमला महरिया मौज
23-निकला जो काम फेंक दिया ख़ार की तरह
23-निकला जो काम फेंक दिया ख़ार की तरह
Ajay Kumar Vimal
जब से देखा है तुमको
जब से देखा है तुमको
Ram Krishan Rastogi
जिंदगी भी फूलों की तरह हैं।
जिंदगी भी फूलों की तरह हैं।
Neeraj Agarwal
Meditation
Meditation
Ravikesh Jha
आरुष का गिटार
आरुष का गिटार
shivanshi2011
Harmony's Messenger: Sauhard Shiromani Sant Shri Saurabh
Harmony's Messenger: Sauhard Shiromani Sant Shri Saurabh
World News
रमेशराज की एक हज़ल
रमेशराज की एक हज़ल
कवि रमेशराज
बदले नजरिया समाज का
बदले नजरिया समाज का
Dr. Kishan tandon kranti
दीदार
दीदार
Dipak Kumar "Girja"
शायरी 2
शायरी 2
SURYA PRAKASH SHARMA
है हार तुम्ही से जीत मेरी,
है हार तुम्ही से जीत मेरी,
कृष्णकांत गुर्जर
44...Ramal musamman maKHbuun mahzuuf maqtuu.a
44...Ramal musamman maKHbuun mahzuuf maqtuu.a
sushil yadav
Loading...