Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Feb 2023 · 1 min read

बहुत मुश्किल है

जो मैंने एहसास किया है उसे लिखना बहुत मुश्किल है
तेरे बारे में सब कुछ लिख दू वो शब्द खोजना बहुत मुश्किल है

वो तेरे चेहरे की हसी देखकर जो मेरा हाल होता था वो बताना बहुत मुश्किल है
तुझे देखने के लिए न जाने कौन से बहाने खोजता था ये बताना बहुत मुश्किल है

तेरे परेशान होने पर तुझसे बात करने के न जाने कितने बहाने खोजता था वो लिखना बहुत मुश्किल है
मेरी बातों से तेरा सब कुछ भूल जाना वो एहसास मेरे लिए कितना खास था वो बताना बहुत मुश्किल है

तेरी समझदारी भरी बातों को हसी में निकालना कितना मुश्किल था वो बताना बहुत मुश्किल है
तू कभी उदास न हो इसके लिए न जाने कितनी कोशिश की वो सब बताना बहुत मुश्किल है

तेरी आँखों में आंसू देख कर जो मैंने एहसास किया उसे बताना बहुत मुश्किल है
तेरे न होने के ख्याल से ही कितना बेचैन हो जाता हूँ वो सब बताना बहुत मुश्किल है

तुझे इस बात का एहसास कराना की मै हमेशा तेरे साथ हूँ मेरे लिए बहुत मुश्किल है
मुझे अपनी बातें तुझे बताने से खुद को रोकना मेरे लिए बहुत मुश्किल है

1 Like · 178 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"जियो जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
जंगल में सर्दी
जंगल में सर्दी
Kanchan Khanna
सारे दुख दर्द होजाते है खाली,
सारे दुख दर्द होजाते है खाली,
Kanchan Alok Malu
कुछ नही हो...
कुछ नही हो...
Sapna K S
हम तुम्हारे हुए
हम तुम्हारे हुए
नेताम आर सी
मन में उतर कर मन से उतर गए
मन में उतर कर मन से उतर गए
ruby kumari
*टमाटर (बाल कविता)*
*टमाटर (बाल कविता)*
Ravi Prakash
23/134.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/134.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ईश ......
ईश ......
sushil sarna
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
करे ज़ुदा बातें हरपल जो, मानव वो दीवाना है।
करे ज़ुदा बातें हरपल जो, मानव वो दीवाना है।
आर.एस. 'प्रीतम'
Humans and Animals - When When and When? - Desert fellow Rakesh Yadav
Humans and Animals - When When and When? - Desert fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
बेख़ौफ़ क़लम
बेख़ौफ़ क़लम
Shekhar Chandra Mitra
कविता
कविता
Rambali Mishra
मेरे सनम
मेरे सनम
Shiv yadav
🌹🌹🌹शुभ दिवाली🌹🌹🌹
🌹🌹🌹शुभ दिवाली🌹🌹🌹
umesh mehra
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
कुण्डलिया छंद
कुण्डलिया छंद
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
सहधर्मिणी
सहधर्मिणी
Bodhisatva kastooriya
आँखों में सपनों को लेकर क्या करोगे
आँखों में सपनों को लेकर क्या करोगे
Suryakant Dwivedi
कुछ बातों का ना होना अच्छा,
कुछ बातों का ना होना अच्छा,
Ragini Kumari
जीवन की विफलता
जीवन की विफलता
Dr fauzia Naseem shad
जिस्म से जान निकालूँ कैसे ?
जिस्म से जान निकालूँ कैसे ?
Manju sagar
जीवन उद्देश्य
जीवन उद्देश्य
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
सब कुछ हमे पता है, हमे नसियत ना दीजिए
सब कुछ हमे पता है, हमे नसियत ना दीजिए
पूर्वार्थ
मैं गीत हूं ग़ज़ल हो तुम न कोई भूल पाएगा।
मैं गीत हूं ग़ज़ल हो तुम न कोई भूल पाएगा।
सत्य कुमार प्रेमी
ছায়া যুদ্ধ
ছায়া যুদ্ধ
Otteri Selvakumar
परिंदा हूं आसमां का
परिंदा हूं आसमां का
Praveen Sain
हम तो मर गए होते मगर,
हम तो मर गए होते मगर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
तिरंगा
तिरंगा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...