Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 May 2024 · 1 min read

बहुत कुछ बदल गया है

आज कुछ ऐसा महसूस हो रहा है,
समय के साथ बहुत कुछ बदल गया है।

न है अपेक्षा न ही उपेक्षा का रहा भाव,
केवल ख़ुद में ख़ुद संग जीने की है चाह।

नहीं कोई शोध या प्रतिशोध की कामना,
केवल भावनाओं को कलमबद्ध करने की है चाह।

न सहभागिता न प्रतियोगिता की रही होड़,
केवल सच्चे जीवनसाथी से आत्मीयता की है चाह।

न मिलने का उत्साह न बिछड़ने की परवाह,
केवल अथाह प्रेम बाँटने और पाने की प्रबल है चाह।

न होती आकस्मिक प्रतिकूलता की घबराहट,
केवल परिस्थितियों के अनुरूप ख़ुद को ढालने की है चाह।

बढ़ चले हैं क़दम स्वयमेव आध्यात्मिक राह पर,
केवल चिरस्थाई शांति की डगर पर चलने की है चाह।

नहीं प्रत्याशा अब ऊंचाईयों को छूने की मन में,
केवल धरती पर सांस्कृतिक जड़ों से जुड़े रहने की है चाह।

डॉ दवीना अमर ठकराल ‘देविका’

25 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ बेमन की बात...
■ बेमन की बात...
*प्रणय प्रभात*
वो ज़ख्म जो दिखाई नहीं देते
वो ज़ख्म जो दिखाई नहीं देते
shabina. Naaz
राह मुश्किल हो चाहे आसां हो
राह मुश्किल हो चाहे आसां हो
Shweta Soni
*खादिम*
*खादिम*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्यार क्या है
प्यार क्या है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरे प्रेम की सार्थकता को, सवालों में भटका जाती हैं।
मेरे प्रेम की सार्थकता को, सवालों में भटका जाती हैं।
Manisha Manjari
शुभ रात्रि मित्रों
शुभ रात्रि मित्रों
आर.एस. 'प्रीतम'
पापा मैं आप सी नही हो पाऊंगी
पापा मैं आप सी नही हो पाऊंगी
Anjana banda
श्री कृष्ण जन्माष्टमी...
श्री कृष्ण जन्माष्टमी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
या देवी सर्वभूतेषु विद्यारुपेण संस्थिता
या देवी सर्वभूतेषु विद्यारुपेण संस्थिता
Sandeep Kumar
जब से देखा है तुमको
जब से देखा है तुमको
Ram Krishan Rastogi
नवम दिवस सिद्धिधात्री,सब पर रहो प्रसन्न।
नवम दिवस सिद्धिधात्री,सब पर रहो प्रसन्न।
Neelam Sharma
बस हौसला करके चलना
बस हौसला करके चलना
SATPAL CHAUHAN
खवाब है तेरे तु उनको सजालें
खवाब है तेरे तु उनको सजालें
Swami Ganganiya
तय
तय
Ajay Mishra
14. आवारा
14. आवारा
Rajeev Dutta
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
राधा अष्टमी पर कविता
राधा अष्टमी पर कविता
कार्तिक नितिन शर्मा
‘ विरोधरस ‘---10. || विरोधरस के सात्विक अनुभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---10. || विरोधरस के सात्विक अनुभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
निभा गये चाणक्य सा,
निभा गये चाणक्य सा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सुंदरता के मायने
सुंदरता के मायने
Surya Barman
एक पुरुष कभी नपुंसक नहीं होता बस उसकी सोच उसे वैसा बना देती
एक पुरुष कभी नपुंसक नहीं होता बस उसकी सोच उसे वैसा बना देती
Rj Anand Prajapati
"व्यक्ति जब अपने अंदर छिपी हुई शक्तियों के स्रोत को जान लेता
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
चाय दिवस
चाय दिवस
Dr Archana Gupta
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
" प्रश्न "
Dr. Kishan tandon kranti
कुप्रथाएं.......एक सच
कुप्रथाएं.......एक सच
Neeraj Agarwal
न मुमकिन है ख़ुद का घरौंदा मिटाना
न मुमकिन है ख़ुद का घरौंदा मिटाना
शिल्पी सिंह बघेल
फुटपाथों पर लोग रहेंगे
फुटपाथों पर लोग रहेंगे
Chunnu Lal Gupta
Loading...