Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Mar 2023 · 1 min read

बहुत कुछ था कहने को भीतर मेरे

बहुत कुछ था कहने को भीतर मेरे

पर एक कमबख्त तुम ही नहीं थी !

277 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*आया पूरब से अरुण ,पिघला जैसे स्वर्ण (कुंडलिया)*
*आया पूरब से अरुण ,पिघला जैसे स्वर्ण (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
**हो गया हूँ दर बदर चाल बदली देख कर**
**हो गया हूँ दर बदर चाल बदली देख कर**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
तूफ़ान और मांझी
तूफ़ान और मांझी
DESH RAJ
फितरत जग एक आईना
फितरत जग एक आईना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
समय सीमित है इसलिए इसे किसी और के जैसे जिंदगी जीने में व्यर्
समय सीमित है इसलिए इसे किसी और के जैसे जिंदगी जीने में व्यर्
Shashi kala vyas
होता अगर मैं एक शातिर
होता अगर मैं एक शातिर
gurudeenverma198
तुम यूं मिलो की फासला ना रहे दरमियां
तुम यूं मिलो की फासला ना रहे दरमियां
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
एक सांप तब तक किसी को मित्र बनाकर रखता है जब तक वह भूखा न हो
एक सांप तब तक किसी को मित्र बनाकर रखता है जब तक वह भूखा न हो
Rj Anand Prajapati
शिवाजी गुरु स्वामी समर्थ रामदास – भाग-01
शिवाजी गुरु स्वामी समर्थ रामदास – भाग-01
Sadhavi Sonarkar
दीवानगी
दीवानगी
Shyam Sundar Subramanian
रोटी
रोटी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
2983.*पूर्णिका*
2983.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कर रहा हम्मास नरसंहार देखो।
कर रहा हम्मास नरसंहार देखो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
कभी किताब से गुज़रे
कभी किताब से गुज़रे
Ranjana Verma
55 रुपए के बराबर
55 रुपए के बराबर
*Author प्रणय प्रभात*
किस क़दर आसान था
किस क़दर आसान था
हिमांशु Kulshrestha
कागज़ की नाव सी, न हो जिन्दगी तेरी
कागज़ की नाव सी, न हो जिन्दगी तेरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कवि की कल्पना
कवि की कल्पना
Rekha Drolia
"समझदार"
Dr. Kishan tandon kranti
बीज और बच्चे
बीज और बच्चे
Manu Vashistha
सबसे ज्यादा विश्वासघात
सबसे ज्यादा विश्वासघात
ruby kumari
तुम्हें कब ग़ैर समझा है,
तुम्हें कब ग़ैर समझा है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*....आज का दिन*
*....आज का दिन*
Naushaba Suriya
ऐसी भी होगी एक सुबह, सूरज भी हो जाएगा नतमस्तक देख कर तेरी ये
ऐसी भी होगी एक सुबह, सूरज भी हो जाएगा नतमस्तक देख कर तेरी ये
Vaishaligoel
प्रार्थना
प्रार्थना
Shally Vij
मार मुदई के रे... 2
मार मुदई के रे... 2
जय लगन कुमार हैप्पी
बहुत सोर करती है ,तुम्हारी बेजुबा यादें।
बहुत सोर करती है ,तुम्हारी बेजुबा यादें।
पूर्वार्थ
वो इश्क की गली का
वो इश्क की गली का
साहित्य गौरव
कई लोगों के दिलों से बहुत दूर हुए हैं
कई लोगों के दिलों से बहुत दूर हुए हैं
कवि दीपक बवेजा
Loading...