Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Sep 2023 · 1 min read

*बहुत कठिन डगर जीवन की*

बहुत कठिन डगर जीवन की
************************

बहुत कठिन ड़गर जीवन की।
सदा सुनती मगर जीवन की।

जली है आग तन – मन हर दिन,
बुझे लपटें अगर जीवन की।

न ही कोई मिला संगी साथी,
कहीं खोई खबर जीवन की।

गिरे बिजली बदन जल उठता,
नहीं मिलती कदर जीवन की।

गुजर कैसेब् करूँ मनसीरत,
बड़ी मुश्किल बसर जीवन की।
**************************
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेडी राओ वाली (कैथल)

181 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"सन्त रविदास जयन्ती" 24/02/2024 पर विशेष ...
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तमाशबीन जवानी
तमाशबीन जवानी
Shekhar Chandra Mitra
आज हमने उनके ऊपर कुछ लिखने की कोशिश की,
आज हमने उनके ऊपर कुछ लिखने की कोशिश की,
Vishal babu (vishu)
तन तो केवल एक है,
तन तो केवल एक है,
sushil sarna
कदम रखूं ज्यों शिखर पर
कदम रखूं ज्यों शिखर पर
Divya Mishra
मैं भी डरती हूॅं
मैं भी डरती हूॅं
Mamta Singh Devaa
-- जिंदगी तो कट जायेगी --
-- जिंदगी तो कट जायेगी --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
सुबुधि -ज्ञान हीर कर
सुबुधि -ज्ञान हीर कर
Pt. Brajesh Kumar Nayak
आज की बेटियां
आज की बेटियां
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
सत्य केवल उन लोगो के लिए कड़वा होता है
सत्य केवल उन लोगो के लिए कड़वा होता है
Ranjeet kumar patre
जो गिर गिर कर उठ जाते है, जो मुश्किल से न घबराते है,
जो गिर गिर कर उठ जाते है, जो मुश्किल से न घबराते है,
अनूप अम्बर
कभी कभी ज़िंदगी में लिया गया छोटा निर्णय भी बाद के दिनों में
कभी कभी ज़िंदगी में लिया गया छोटा निर्णय भी बाद के दिनों में
Paras Nath Jha
मेरी मलम की माँग
मेरी मलम की माँग
Anil chobisa
"अधूरी कविता"
Dr. Kishan tandon kranti
परोपकार का भाव
परोपकार का भाव
Buddha Prakash
💐प्रेम कौतुक-363💐
💐प्रेम कौतुक-363💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मृदुलता ,शालीनता ,शिष्टाचार और लोगों के हमदर्द बनकर हम सम्पू
मृदुलता ,शालीनता ,शिष्टाचार और लोगों के हमदर्द बनकर हम सम्पू
DrLakshman Jha Parimal
खोदकर इक शहर देखो लाश जंगल की मिलेगी
खोदकर इक शहर देखो लाश जंगल की मिलेगी
Johnny Ahmed 'क़ैस'
मंत्र की ताकत
मंत्र की ताकत
Rakesh Bahanwal
“मां बनी मम्मी”
“मां बनी मम्मी”
पंकज कुमार कर्ण
ज़िंदगी को अगर स्मूथली चलाना हो तो चु...या...पा में संलिप्त
ज़िंदगी को अगर स्मूथली चलाना हो तो चु...या...पा में संलिप्त
Dr MusafiR BaithA
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
.......... मैं चुप हूं......
.......... मैं चुप हूं......
Naushaba Suriya
प्रेमी-प्रेमिकाओं का बिछड़ना, कोई नई बात तो नहीं
प्रेमी-प्रेमिकाओं का बिछड़ना, कोई नई बात तो नहीं
The_dk_poetry
यहां कुछ भी स्थाई नहीं है
यहां कुछ भी स्थाई नहीं है
शेखर सिंह
2289.पूर्णिका
2289.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
राखी की सौगंध
राखी की सौगंध
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कितनी ही दफा मुस्कुराओ
कितनी ही दफा मुस्कुराओ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
नाम इंसानियत का
नाम इंसानियत का
Dr fauzia Naseem shad
Loading...