Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Apr 2024 · 1 min read

बहती नदी का करिश्मा देखो,

बहती नदी का करिश्मा देखो,
खुद तो बह रही ,
नाव को भी बहा ले गयी,
नाविक की बस कमी थी,
वरना मजाल, नाव की दिशा न बदलती।

2 Likes · 1 Comment · 42 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
शीर्षक - 'शिक्षा : गुणात्मक सुधार और पुनर्मूल्यांकन की महत्ती आवश्यकता'
शीर्षक - 'शिक्षा : गुणात्मक सुधार और पुनर्मूल्यांकन की महत्ती आवश्यकता'
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
होली के हुड़दंग में ,
होली के हुड़दंग में ,
sushil sarna
जिंदगी
जिंदगी
विजय कुमार अग्रवाल
*अभी भी शादियों में खर्च, सबकी प्राथमिकता है (मुक्तक)*
*अभी भी शादियों में खर्च, सबकी प्राथमिकता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
स्वार्थ से परे !!
स्वार्थ से परे !!
Seema gupta,Alwar
"आत्म-निर्भरता"
*Author प्रणय प्रभात*
"अहङ्कारी स एव भवति यः सङ्घर्षं विना हि सर्वं लभते।
Mukul Koushik
विध्न विनाशक नाथ सुनो, भय से भयभीत हुआ जग सारा।
विध्न विनाशक नाथ सुनो, भय से भयभीत हुआ जग सारा।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
बोलो क्या कहना है बोलो !!
बोलो क्या कहना है बोलो !!
Ramswaroop Dinkar
लक्ष्य हासिल करना उतना सहज नहीं जितना उसके पूर्ति के लिए अभि
लक्ष्य हासिल करना उतना सहज नहीं जितना उसके पूर्ति के लिए अभि
Sukoon
डारा-मिरी
डारा-मिरी
Dr. Kishan tandon kranti
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जिन्दगी कभी नाराज होती है,
जिन्दगी कभी नाराज होती है,
Ragini Kumari
दो दोस्तों में दुश्मनी - Neel Padam
दो दोस्तों में दुश्मनी - Neel Padam
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
संघर्षी वृक्ष
संघर्षी वृक्ष
Vikram soni
आब त रावणक राज्य अछि  सबतरि ! गाम मे ,समाज मे ,देशक कोन - को
आब त रावणक राज्य अछि सबतरि ! गाम मे ,समाज मे ,देशक कोन - को
DrLakshman Jha Parimal
बहुमूल्य जीवन और युवा पीढ़ी
बहुमूल्य जीवन और युवा पीढ़ी
Gaurav Sony
बात जुबां से अब कौन निकाले
बात जुबां से अब कौन निकाले
Sandeep Pande
दोहावली
दोहावली
आर.एस. 'प्रीतम'
"सत्य"
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
पत्रकारों को पत्रकार के ही भाषा में जवाब दिया जा सकता है । प
पत्रकारों को पत्रकार के ही भाषा में जवाब दिया जा सकता है । प
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
इतनी खुबसूरत नही होती मोहब्बत जितनी शायरो ने बना रखी है,
इतनी खुबसूरत नही होती मोहब्बत जितनी शायरो ने बना रखी है,
पूर्वार्थ
अभी दिल भरा नही
अभी दिल भरा नही
Ram Krishan Rastogi
शिव स्तुति
शिव स्तुति
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
ग़ज़ल - ख़्वाब मेरा
ग़ज़ल - ख़्वाब मेरा
Mahendra Narayan
चुनिंदा अश'आर
चुनिंदा अश'आर
Dr fauzia Naseem shad
3028.*पूर्णिका*
3028.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
विलोमात्मक प्रभाव~
विलोमात्मक प्रभाव~
दिनेश एल० "जैहिंद"
मेरी फितरत
मेरी फितरत
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
Loading...