Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

“बस रोक रखी थी”

टूट तो मैं कब की चुकी थी,
बस रोक रखी थी,खुद को बिखरने से|
एक कतरा समेटती,तो दूसरा छूट जाता,
फिर भी कोशिशें करती रहती,समेटने की,
साँसें थामी थीं ,कि कहीं थम न जाये,
बस कुछ और पल,शायद ज़िंदगी की समेट लूँ ,
बस रोक रखी थी, खुद को बिखरने से |
कशमकश तो देखिये,समेटने-बिखरने में ,
मैं तो खुद से ही छूट गयी,
अपने छूटे,सपने टूटे बंधन में ,
अनुबन्धन में जाने कितने रूठे,
जीतने की कोशिश में मैं तो हार गयी,
बस रोक रखी थी, खुद को बिखरने से||
…निधि…

236 Views
You may also like:
*पापा … मेरे पापा …*
Neelam Chaudhary
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
"पधारो, घर-घर आज कन्हाई.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जिंदगी
Abhishek Pandey Abhi
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
अच्छा आहार, अच्छा स्वास्थ्य
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
ये शिक्षामित्र है भाई कि इसमें जान थोड़ी है
आकाश महेशपुरी
कौन दिल का
Dr fauzia Naseem shad
पिता की याद
Meenakshi Nagar
मर गये ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
भगवान जगन्नाथ की आरती (०१
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ज़िंदगी से सवाल
Dr fauzia Naseem shad
यादें
kausikigupta315
गाऊँ तेरी महिमा का गान (हरिशयन एकादशी विशेष)
श्री रमण 'श्रीपद्'
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
फीका त्यौहार
पाण्डेय चिदानन्द
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
छीन लिए है जब हक़ सारे तुमने
Ram Krishan Rastogi
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
हो मन में लगन
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
सोच तेरी हो
Dr fauzia Naseem shad
"पिता की क्षमता"
पंकज कुमार कर्ण
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
प्राकृतिक आजादी और कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Loading...