Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Mar 2023 · 1 min read

~~बस यूँ ही~~

~~बस यूँ ही~~

कहने को चंद दूरी का फांसला हैं,
तेरे मेरे दरमियाँ..!
पर अरसे से मुलाक़ात नही हैं,
तेरे मेरे दरमियाँ..!!

1 Like · 484 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Manju Saini
View all
You may also like:
Mystical Love
Mystical Love
Sidhartha Mishra
की है निगाहे - नाज़ ने दिल पे हया की चोट
की है निगाहे - नाज़ ने दिल पे हया की चोट
Sarfaraz Ahmed Aasee
छठ परब।
छठ परब।
Acharya Rama Nand Mandal
*बहुत कठिन डगर जीवन की*
*बहुत कठिन डगर जीवन की*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"दिल में झाँकिए"
Dr. Kishan tandon kranti
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
गुस्सा दिलाकर ,
गुस्सा दिलाकर ,
Umender kumar
जिंदगी है कोई मांगा हुआ अखबार नहीं ।
जिंदगी है कोई मांगा हुआ अखबार नहीं ।
Phool gufran
हिंदी पखवाडा
हिंदी पखवाडा
Shashi Dhar Kumar
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
जुए और चुनाव में उतना ही धन डालें, जिसे बिना परेशानी के क्वि
जुए और चुनाव में उतना ही धन डालें, जिसे बिना परेशानी के क्वि
Sanjay ' शून्य'
3528.🌷 *पूर्णिका*🌷
3528.🌷 *पूर्णिका*🌷
Dr.Khedu Bharti
इश्क़  जब  हो  खुदा  से  फिर  कहां  होश  रहता ,
इश्क़ जब हो खुदा से फिर कहां होश रहता ,
Neelofar Khan
आग और धुआं
आग और धुआं
Ritu Asooja
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सौदागर हूँ
सौदागर हूँ
Satish Srijan
किसान मजदूर होते जा रहे हैं।
किसान मजदूर होते जा रहे हैं।
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
प्रभु हैं खेवैया
प्रभु हैं खेवैया
Dr. Upasana Pandey
खुश रहने की कोशिश में
खुश रहने की कोशिश में
Surinder blackpen
आज  उपेक्षित क्यों भला,
आज उपेक्षित क्यों भला,
sushil sarna
हम तुम्हारे साथ हैं
हम तुम्हारे साथ हैं
विक्रम कुमार
अभिव्यक्ति के समुद्र में, मौत का सफर चल रहा है
अभिव्यक्ति के समुद्र में, मौत का सफर चल रहा है
प्रेमदास वसु सुरेखा
रूह का रिश्ता
रूह का रिश्ता
Seema gupta,Alwar
,,
,,
Sonit Parjapati
चैन से रहने का हमें
चैन से रहने का हमें
शेखर सिंह
कहा हों मोहन, तुम दिखते नहीं हों !
कहा हों मोहन, तुम दिखते नहीं हों !
The_dk_poetry
आखिरी वक्त में
आखिरी वक्त में
Harminder Kaur
जी रही हूँ
जी रही हूँ
Pratibha Pandey
एक महिला तब ज्यादा रोती है जब उसके परिवार में कोई बाधा या फि
एक महिला तब ज्यादा रोती है जब उसके परिवार में कोई बाधा या फि
Rj Anand Prajapati
श्रेष्ठता
श्रेष्ठता
Paras Nath Jha
Loading...