Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Dec 2023 · 1 min read

बस तुम हो और परछाई तुम्हारी, फिर भी जीना पड़ता है

बस तुम हो और परछाई तुम्हारी, फिर भी जीना पड़ता है
जीना पड़ता है, हर हाल में जीना पड़ता है
हालत चाहे जैसे हों संघर्ष करना पड़ता है
जब तक साया सर पर मात पिता का, कोई खौफ नहीं हालातों का
गर्दिश में सितारे कितने भी हों,ये रिश्ता है जज्बातों का
कोई खता भी हम से हो जाए, ये साया ढाल बन जाता है
माना होती घबराहट थोड़ी, फिर भी मन बेफिक्र हो जाता है
सदा सुरक्षित होते हम,जब आशीर्वाद उनका रहता है
जीना पड़ता है, हर हाल में जीना पड़ता है
फिर होता प्रहार बक्त का ऐसा, ह्रदय टूट जाता है
काल खंड ऐसा भी आता, सब सपने तोड़ जाता हैं
कुटुंब भरा कितना भी हो,मझधार में छोड़ जाता है
बस तुम हो और परछाई तुम्हारी, फिर भी जीना पड़ता है
जीना पड़ता है, हर हाल में जीना पड़ता है…..

167 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सुरक्षा
सुरक्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बेटी परायो धन बताये, पिहर सु ससुराल मे पति थम्माये।
बेटी परायो धन बताये, पिहर सु ससुराल मे पति थम्माये।
Anil chobisa
साहिल समंदर के तट पर खड़ी हूँ,
साहिल समंदर के तट पर खड़ी हूँ,
Sahil Ahmad
तुझको को खो कर मैंने खुद को पा लिया है।
तुझको को खो कर मैंने खुद को पा लिया है।
Vishvendra arya
कैसे देखनी है...?!
कैसे देखनी है...?!
Srishty Bansal
प्रीतघोष है प्रीत का, धड़कन  में  नव  नाद ।
प्रीतघोष है प्रीत का, धड़कन में नव नाद ।
sushil sarna
"जंगल की सैर”
पंकज कुमार कर्ण
वह देश हिंदुस्तान है
वह देश हिंदुस्तान है
gurudeenverma198
देखा है जब से तुमको
देखा है जब से तुमको
Ram Krishan Rastogi
देश के युवा करे पुकार, शिक्षित हो हमारी सरकार
देश के युवा करे पुकार, शिक्षित हो हमारी सरकार
Gouri tiwari
■ सोचो, विचारो और फिर निष्कर्ष निकालो। हो सकता है अपनी मूर्ख
■ सोचो, विचारो और फिर निष्कर्ष निकालो। हो सकता है अपनी मूर्ख
*Author प्रणय प्रभात*
"अकेलापन"
Pushpraj Anant
*कोटि-कोटि हे जय गणपति हे, जय जय देव गणेश (गीतिका)*
*कोटि-कोटि हे जय गणपति हे, जय जय देव गणेश (गीतिका)*
Ravi Prakash
वो मिलकर मौहब्बत में रंग ला रहें हैं ।
वो मिलकर मौहब्बत में रंग ला रहें हैं ।
Phool gufran
टेंशन है, कुछ समझ नहीं आ रहा,क्या करूं,एक ब्रेक लो,प्रॉब्लम
टेंशन है, कुछ समझ नहीं आ रहा,क्या करूं,एक ब्रेक लो,प्रॉब्लम
dks.lhp
जरा सी गलतफहमी पर
जरा सी गलतफहमी पर
Vishal babu (vishu)
गरीबी और भूख:समाधान क्या है ?
गरीबी और भूख:समाधान क्या है ?
Dr fauzia Naseem shad
"दीया और तूफान"
Dr. Kishan tandon kranti
ऋतु सुषमा बसंत
ऋतु सुषमा बसंत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
* अपना निलय मयखाना हुआ *
* अपना निलय मयखाना हुआ *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
गुलाब-से नयन तुम्हारे
गुलाब-से नयन तुम्हारे
परमार प्रकाश
A little hope can kill you.
A little hope can kill you.
Manisha Manjari
डॉ अरुण कुमार शास्त्री /एक अबोध बालक
डॉ अरुण कुमार शास्त्री /एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
जीवन का रंगमंच
जीवन का रंगमंच
Harish Chandra Pande
गौर फरमाएं अर्ज किया है....!
गौर फरमाएं अर्ज किया है....!
पूर्वार्थ
*फितरत*
*फितरत*
Dushyant Kumar
//खलती तेरी जुदाई//
//खलती तेरी जुदाई//
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
चली पुजारन...
चली पुजारन...
डॉ.सीमा अग्रवाल
2502.पूर्णिका
2502.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...