Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jan 2024 · 1 min read

बसंती हवा

सरसराती चली बसंती हवा
इसने मुझे मदहोश किया

फूल ने फूलों के कानों में
होले से कुछ कहा
मुस्कुरा उठी हर पंखुड़ी
हर शाख हर डाली डाली
जहाँ तक हमने नज़र डाली

सरसराती चली बसंती हवा
इसने मुझे मदहोश किया

भंवरे ने फूल के शाने पर सिर रखकर
कोई सुंदर सा गीत गाने लगा
तुम पर कुदरत कितनी मेहरबान है
रंगों की छूटी है जैसे पिचकारी
ऐसी है तुम पर रंगों से चित्रकारी

सरसराती चली बसंती हवा
उसने मुझे मदहोश किया

यह नदिया के धारे
यह तालाब के किनारे
खिलते कमल न्यारे न्यारे
लो देखो बसंत के नज़ारे
बाग में आई है बहारें

सरसराती चली बसंती हवा
इसने मुझे मदहोश किया

153 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मजदूर दिवस पर एक रचना
मजदूर दिवस पर एक रचना
sushil sarna
तू एक फूल-सा
तू एक फूल-सा
Sunanda Chaudhary
कृष्ण की राधा बावरी
कृष्ण की राधा बावरी
Mangilal 713
एक तुम्हारे होने से....!!!
एक तुम्हारे होने से....!!!
Kanchan Khanna
जो चीजे शांत होती हैं
जो चीजे शांत होती हैं
ruby kumari
प्यार विश्वाश है इसमें कोई वादा नहीं होता!
प्यार विश्वाश है इसमें कोई वादा नहीं होता!
Diwakar Mahto
राजनीति
राजनीति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
लिख के उंगली से धूल पर कोई - संदीप ठाकुर
लिख के उंगली से धूल पर कोई - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
विषय – मौन
विषय – मौन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खो कर खुद को,
खो कर खुद को,
Pramila sultan
शक्कर में ही घोलिए,
शक्कर में ही घोलिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
भीनी भीनी आ रही सुवास है।
भीनी भीनी आ रही सुवास है।
Omee Bhargava
*सात शेर*
*सात शेर*
Ravi Prakash
*
*"सरहदें पार रहता यार है**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
लगा हो ज़हर जब होठों पर
लगा हो ज़हर जब होठों पर
Shashank Mishra
"सोच"
Dr. Kishan tandon kranti
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मुक्तक _ दिखावे को ....
मुक्तक _ दिखावे को ....
Neelofar Khan
फितरत न कभी सीखा
फितरत न कभी सीखा
Satish Srijan
*प्रकृति-प्रेम*
*प्रकृति-प्रेम*
Dr. Priya Gupta
कचनार
कचनार
Mohan Pandey
"आशा" की कुण्डलियाँ"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
समय और स्वास्थ्य के असली महत्त्व को हम तब समझते हैं जब उसका
समय और स्वास्थ्य के असली महत्त्व को हम तब समझते हैं जब उसका
Paras Nath Jha
सितारों की तरह चमकना है, तो सितारों की तरह जलना होगा।
सितारों की तरह चमकना है, तो सितारों की तरह जलना होगा।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
बेसहारों को देख मस्ती में
बेसहारों को देख मस्ती में
Neeraj Mishra " नीर "
दिखा तू अपना जलवा
दिखा तू अपना जलवा
gurudeenverma198
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
Ranjeet kumar patre
हर एक राज को राज ही रख के आ गए.....
हर एक राज को राज ही रख के आ गए.....
कवि दीपक बवेजा
एहसास
एहसास
Er.Navaneet R Shandily
"Sometimes happiness and peace come when you lose something.
पूर्वार्थ
Loading...