Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2024 · 1 min read

बलबीर

तरकश सब खाली हुए,
कुंद पड़ी शमशीर।
नई चाल चलने लगा,
झुका हुआ बलबीर।

Language: Hindi
75 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वतन के लिए
वतन के लिए
नूरफातिमा खातून नूरी
गीत गाने आयेंगे
गीत गाने आयेंगे
इंजी. संजय श्रीवास्तव
बलराम विवाह
बलराम विवाह
Rekha Drolia
वह एक वस्तु,
वह एक वस्तु,
Shweta Soni
छह ऋतु, बारह मास हैं, ग्रीष्म-शरद-बरसात
छह ऋतु, बारह मास हैं, ग्रीष्म-शरद-बरसात
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गले लोकतंत्र के नंगे / मुसाफ़िर बैठा
गले लोकतंत्र के नंगे / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
बेटी के जीवन की विडंबना
बेटी के जीवन की विडंबना
Rajni kapoor
कुछ पंक्तियाँ
कुछ पंक्तियाँ
आकांक्षा राय
लाईक और कॉमेंट्स
लाईक और कॉमेंट्स
Dr. Pradeep Kumar Sharma
மழையின் சத்தத்தில்
மழையின் சத்தத்தில்
Otteri Selvakumar
विकट संयोग
विकट संयोग
Dr.Priya Soni Khare
इकांत बहुत प्यारी चीज़ है ये आपको उससे मिलती है जिससे सच में
इकांत बहुत प्यारी चीज़ है ये आपको उससे मिलती है जिससे सच में
पूर्वार्थ
तुम खेलते रहे बाज़ी, जीत के जूनून में
तुम खेलते रहे बाज़ी, जीत के जूनून में
Namrata Sona
*चालू झगड़े हैं वहॉं, संस्था जहॉं विशाल (कुंडलिया)*
*चालू झगड़े हैं वहॉं, संस्था जहॉं विशाल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ज़िंदगी को
ज़िंदगी को
Sangeeta Beniwal
महबूबा
महबूबा
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
हम फर्श पर गुमान करते,
हम फर्श पर गुमान करते,
Neeraj Agarwal
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
मेरा विचार ही व्यक्तित्व है..
मेरा विचार ही व्यक्तित्व है..
Jp yathesht
Who am I?
Who am I?
R. H. SRIDEVI
सच्चे देशभक्त ‘ लाला लाजपत राय ’
सच्चे देशभक्त ‘ लाला लाजपत राय ’
कवि रमेशराज
खून के आंसू रोये
खून के आंसू रोये
Surinder blackpen
प्रियवर
प्रियवर
लक्ष्मी सिंह
"किताबें"
Dr. Kishan tandon kranti
मेला लगता तो है, मेल बढ़ाने के लिए,
मेला लगता तो है, मेल बढ़ाने के लिए,
Buddha Prakash
तू नर नहीं नारायण है
तू नर नहीं नारायण है
Dr. Upasana Pandey
अच्छाई बाहर नहीं अन्दर ढूंढो, सुन्दरता कपड़ों में नहीं व्यवह
अच्छाई बाहर नहीं अन्दर ढूंढो, सुन्दरता कपड़ों में नहीं व्यवह
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
चक्करवर्ती तूफ़ान को लेकर
चक्करवर्ती तूफ़ान को लेकर
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...