Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 May 2023 · 1 min read

बरसो रे मेघ (कजरी गीत)

प्यासी धरती की तृष्णा मिटाओ रे मेघ।
आज गरजो नहीं तुम बरसो रे मेघ।

कब से राहें तुम्हारी
अपलक देख रही
ग्रीष्म भर तपती
जेष्ठ भर जलती
प्यासी अवनी की तृष्णा बुझाओ रे मेघ।

जीव व्याकुल हुए
जा रहे है सभी
बुन्दो की आस में
जी रहे हैं सभी
सुखे प्राणों में नीर बहाओ रे मेघ।

पपीहा बोल रहा
कजरी भी शान्त है
न मयूर नाच रहा
दादुर भी शान्त है
आज सबकी खुशी तुम बढ़ाओ रे मेघ।

तुम आओगे हरि
याली छा जायेगी
ताल भर जायेंगे
पूष्प खिल जायेंगे
आज धरती की उपमा बढ़ाओ रे मेघ।

तुम्ही से सारे तीज
और त्यौहार है
तुम्हीं से जीवन
खुशियों की बहार है
आज आनन्द के गीत सुनाओ रे मेघ।

– विष्णु प्रसाद ‘पाँचोटिया’

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 233 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वो सुहाने दिन
वो सुहाने दिन
Aman Sinha
मोरनी जैसी चाल
मोरनी जैसी चाल
Dr. Vaishali Verma
भैया दूज (हिंदी गजल/गीतिका)
भैया दूज (हिंदी गजल/गीतिका)
Ravi Prakash
परोपकार
परोपकार
ओंकार मिश्र
हमें सलीका न आया।
हमें सलीका न आया।
Taj Mohammad
*जमीं भी झूमने लगीं है*
*जमीं भी झूमने लगीं है*
Krishna Manshi
2258.
2258.
Dr.Khedu Bharti
" चुस्की चाय की संग बारिश की फुहार
Dr Meenu Poonia
करतूतें किस को बतलाएं
करतूतें किस को बतलाएं
*Author प्रणय प्रभात*
संघर्ष....... जीवन
संघर्ष....... जीवन
Neeraj Agarwal
ब्रह्मांड के विभिन्न आयामों की खोज
ब्रह्मांड के विभिन्न आयामों की खोज
Shyam Sundar Subramanian
बुरा समय था
बुरा समय था
Swami Ganganiya
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
💐प्रेम कौतुक-445💐
💐प्रेम कौतुक-445💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
उम्र अपना निशान
उम्र अपना निशान
Dr fauzia Naseem shad
* बिखर रही है चान्दनी *
* बिखर रही है चान्दनी *
surenderpal vaidya
यूं ही नहीं कहलाते, चिकित्सक/भगवान!
यूं ही नहीं कहलाते, चिकित्सक/भगवान!
Manu Vashistha
चाहता हूं
चाहता हूं
Er. Sanjay Shrivastava
" जय भारत-जय गणतंत्र ! "
Surya Barman
मै ठंठन गोपाल
मै ठंठन गोपाल
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
सृजन और पीड़ा
सृजन और पीड़ा
Shweta Soni
हमारा हाल अब उस तौलिए की तरह है बिल्कुल
हमारा हाल अब उस तौलिए की तरह है बिल्कुल
Johnny Ahmed 'क़ैस'
ख़ुद से ख़ुद को
ख़ुद से ख़ुद को
Akash Yadav
सोचा होगा
सोचा होगा
संजय कुमार संजू
इन्द्रिय जनित ज्ञान सब नश्वर, माया जनित सदा छलता है ।
इन्द्रिय जनित ज्ञान सब नश्वर, माया जनित सदा छलता है ।
लक्ष्मी सिंह
"सुनहरा दौर"
Dr. Kishan tandon kranti
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ग़ज़ल
ग़ज़ल
abhishek rajak
चन्द्रयान
चन्द्रयान
Kavita Chouhan
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
Loading...