Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jun 2023 · 1 min read

बरसों की ज़िंदगी पर

तेरी हो या मेरी , सब की कहानी है एक पल ।
बरसों की ज़िन्दगी पर मौत का भारी है एक पल ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
14 Likes · 212 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
भोले नाथ है हमारे,
भोले नाथ है हमारे,
manjula chauhan
"सफलता कुछ करने या कुछ पाने में नहीं बल्कि अपनी सम्भावनाओं क
पूर्वार्थ
वो हमको देखकर मुस्कुराने में व्यस्त थे,
वो हमको देखकर मुस्कुराने में व्यस्त थे,
Smriti Singh
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Santosh Khanna (world record holder)
पूरी जिंदगानी लूटा देंगे उस ज़िंदगी पर,
पूरी जिंदगानी लूटा देंगे उस ज़िंदगी पर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
उम्र तो गुजर जाती है..... मगर साहेब
उम्र तो गुजर जाती है..... मगर साहेब
shabina. Naaz
🤔🤔🤔समाज 🤔🤔🤔
🤔🤔🤔समाज 🤔🤔🤔
Slok maurya "umang"
कुप्रथाएं.......एक सच
कुप्रथाएं.......एक सच
Neeraj Agarwal
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"दर्द की तासीर"
Dr. Kishan tandon kranti
अंतहीन प्रश्न
अंतहीन प्रश्न
Shyam Sundar Subramanian
..कदम आगे बढ़ाने की कोशिश करता हू...*
..कदम आगे बढ़ाने की कोशिश करता हू...*
Naushaba Suriya
कलमबाज
कलमबाज
Mangilal 713
काश तुम ये जान पाते...
काश तुम ये जान पाते...
डॉ.सीमा अग्रवाल
అందమైన తెలుగు పుస్తకానికి ఆంగ్లము అనే చెదలు పట్టాయి.
అందమైన తెలుగు పుస్తకానికి ఆంగ్లము అనే చెదలు పట్టాయి.
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
प्रकृति के आगे विज्ञान फेल
प्रकृति के आगे विज्ञान फेल
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
पेड़ के हिस्से की जमीन
पेड़ के हिस्से की जमीन
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
माफी
माफी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्रकृति ने चेताया जग है नश्वर
प्रकृति ने चेताया जग है नश्वर
Buddha Prakash
किसका  हम शुक्रिया करें,
किसका हम शुक्रिया करें,
sushil sarna
*देकर ज्ञान गुरुजी हमको जीवन में तुम तार दो*
*देकर ज्ञान गुरुजी हमको जीवन में तुम तार दो*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हाइकु (#मैथिली_भाषा)
हाइकु (#मैथिली_भाषा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
हे! नव युवको !
हे! नव युवको !
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
3384⚘ *पूर्णिका* ⚘
3384⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
कभी भी ऐसे व्यक्ति को,
कभी भी ऐसे व्यक्ति को,
Shubham Pandey (S P)
आवाज़
आवाज़
Dipak Kumar "Girja"
अपने ही हाथों
अपने ही हाथों
Dr fauzia Naseem shad
उलझा रिश्ता
उलझा रिश्ता
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
शायरी
शायरी
डॉ मनीष सिंह राजवंशी
*कागभुशुंडी जी नमन, काग-रूप विद्वान (कुछ दोहे)*
*कागभुशुंडी जी नमन, काग-रूप विद्वान (कुछ दोहे)*
Ravi Prakash
Loading...