Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2018 · 1 min read

बरखा का मौसम

बरखा का मौसम जब-जब आया,
मीत कोई बिछड़ा फिर याद आया।
सपने दिल कई संजोने लगा,
मन भी कही गुनगुनाने लगा।
कभी साथ थे हम उनके सदा,
निभा न सके हम अपनी वफ़ा।
उन्हें बेवफा हम कह न सके,
अकेले अभी तक वो चलते रहे।
रुख जिंदगी में अब ये क्या आया
बरखा का मौसम जब -जब आया……..
जिंदगी में हम आगे निकल गए,
थे हाथ में हाथ अब वो भी फिसल गए।
सोचा था अब बदलेंगे वो,
हमें अब भी अपना कहलेंगे वो।
उनका ये जब -जब ख्याल आया
बरखा का मौसम जब-जब आया……..

3 Likes · 314 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चौमासा विरहा
चौमासा विरहा
लक्ष्मी सिंह
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
3062.*पूर्णिका*
3062.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रंजिशें
रंजिशें
AJAY AMITABH SUMAN
मजदूर
मजदूर
Preeti Sharma Aseem
कविता
कविता
Neelam Sharma
जमाना है
जमाना है
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
"रंगमंच पर"
Dr. Kishan tandon kranti
नई पीढ़ी पूछेगी, पापा ये धोती क्या होती है…
नई पीढ़ी पूछेगी, पापा ये धोती क्या होती है…
Anand Kumar
सुबह-सुबह की बात है
सुबह-सुबह की बात है
Neeraj Agarwal
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
ज़िंदगी क्या है ?
ज़िंदगी क्या है ?
Dr fauzia Naseem shad
किताब
किताब
Sûrëkhâ
कृतघ्न अयोध्यावासी !
कृतघ्न अयोध्यावासी !
ओनिका सेतिया 'अनु '
किसी तरह मां ने उसको नज़र से बचा लिया।
किसी तरह मां ने उसको नज़र से बचा लिया।
Phool gufran
झूठा फिरते बहुत हैं,बिन ढूंढे मिल जाय।
झूठा फिरते बहुत हैं,बिन ढूंढे मिल जाय।
Vijay kumar Pandey
मां आई
मां आई
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
// सुविचार //
// सुविचार //
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
फेसबुक गर्लफ्रेंड
फेसबुक गर्लफ्रेंड
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हमारे बुज़ुर्ग अनमोल हैं ,
हमारे बुज़ुर्ग अनमोल हैं ,
Neelofar Khan
" फेसबूक फ़्रेंड्स "
DrLakshman Jha Parimal
नजरिया
नजरिया
नेताम आर सी
जुगनू की छांव में इश्क़ का ख़ुमार होता है
जुगनू की छांव में इश्क़ का ख़ुमार होता है
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
झोली फैलाए शामों सहर
झोली फैलाए शामों सहर
नूरफातिमा खातून नूरी
कभी लगे के काबिल हुँ मैं किसी मुकाम के लिये
कभी लगे के काबिल हुँ मैं किसी मुकाम के लिये
Sonu sugandh
सिंहपर्णी का फूल
सिंहपर्णी का फूल
singh kunwar sarvendra vikram
"𝗜 𝗵𝗮𝘃𝗲 𝗻𝗼 𝘁𝗶𝗺𝗲 𝗳𝗼𝗿 𝗹𝗼𝘃𝗲."
पूर्वार्थ
खुली किताब सी लगती हो
खुली किताब सी लगती हो
Jitendra Chhonkar
त्राहि त्राहि
त्राहि त्राहि
Dr.Pratibha Prakash
क़लम, आंसू, और मेरी रुह
क़लम, आंसू, और मेरी रुह
The_dk_poetry
Loading...