Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Feb 2024 · 1 min read

बन्दे तेरी बन्दगी ,कौन करेगा यार ।

बन्दे तेरी बन्दगी ,कौन करेगा यार ।
धोखा फितरत में बसा , तू कितना मक्कार ।
गिरगिट जैसा आचरण, तेरी है पहचान –
चुपके- चुपके तू करे, सच्चाई पर वार ।

सुशील सरना / 6-2-24

75 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तन्हाई
तन्हाई
Surinder blackpen
■ पाठक बचे न श्रोता।
■ पाठक बचे न श्रोता।
*Author प्रणय प्रभात*
"खुश रहिए"
Dr. Kishan tandon kranti
सुस्त हवाओं की उदासी, दिल को भारी कर जाती है।
सुस्त हवाओं की उदासी, दिल को भारी कर जाती है।
Manisha Manjari
ममतामयी मां
ममतामयी मां
SATPAL CHAUHAN
शिक्षक को शिक्षण करने दो
शिक्षक को शिक्षण करने दो
Sanjay Narayan
जिंदगी इम्तिहानों का सफर
जिंदगी इम्तिहानों का सफर
Neeraj Agarwal
#सृजनएजुकेशनट्रस्ट
#सृजनएजुकेशनट्रस्ट
Rashmi Ranjan
भगवत गीता जयंती
भगवत गीता जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रेस का घोड़ा
रेस का घोड़ा
Naseeb Jinagal Koslia नसीब जीनागल कोसलिया
निरुपाय हूँ /MUSAFIR BAITHA
निरुपाय हूँ /MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मोर मुकुट संग होली
मोर मुकुट संग होली
Dinesh Kumar Gangwar
हर एक रास्ते की तकल्लुफ कौन देता है..........
हर एक रास्ते की तकल्लुफ कौन देता है..........
कवि दीपक बवेजा
मेरा गांव
मेरा गांव
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
अब क्या करे?
अब क्या करे?
Madhuyanka Raj
किताबों में झुके सिर दुनिया में हमेशा ऊठे रहते हैं l
किताबों में झुके सिर दुनिया में हमेशा ऊठे रहते हैं l
Ranjeet kumar patre
हिन्दी दोहे- चांदी
हिन्दी दोहे- चांदी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हमने तो उड़ान भर ली सूरज को पाने की,
हमने तो उड़ान भर ली सूरज को पाने की,
Vishal babu (vishu)
विचारों को पढ़ कर छोड़ देने से जीवन मे कोई बदलाव नही आता क्य
विचारों को पढ़ कर छोड़ देने से जीवन मे कोई बदलाव नही आता क्य
Rituraj shivem verma
23/122.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/122.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जो समझना है
जो समझना है
Dr fauzia Naseem shad
होंठ को छू लेता है सबसे पहले कुल्हड़
होंठ को छू लेता है सबसे पहले कुल्हड़
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मैं पागल नहीं कि
मैं पागल नहीं कि
gurudeenverma198
भूल गए हम वो दिन , खुशियाँ साथ मानते थे !
भूल गए हम वो दिन , खुशियाँ साथ मानते थे !
DrLakshman Jha Parimal
भगवान की तलाश में इंसान
भगवान की तलाश में इंसान
Ram Krishan Rastogi
नौकरी (२)
नौकरी (२)
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
धरा हमारी स्वच्छ हो, सबका हो उत्कर्ष।
धरा हमारी स्वच्छ हो, सबका हो उत्कर्ष।
surenderpal vaidya
****वो जीवन मिले****
****वो जीवन मिले****
Kavita Chouhan
नदियों का एहसान
नदियों का एहसान
RAKESH RAKESH
जीवन चक्र
जीवन चक्र
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
Loading...