Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2024 · 1 min read

बदलाव

हर अंधेरी रात के बाद रोशन सुबह का
आग़ाज़ होता है,
हर ग़म के बाद फिर खुशी का
एहसास होता है,

‘अमल -ए -इर्तिका में शाहकार मिटते
बनते रहते है ,
तवारीख़ के पन्नों में स्याह हर्फ़ भी
धुंधले पड़ जाते हैं ,

हर दौर के बाद नया दौर
आता – जाता रहता है ,
हर दौर इंसां को कुछ नई सोच और
ये सीख दे जाता है,

इस जिंदगी का दस्तूर
बदलते रहना है ,
इसमें कोई ठहराव नहीं हमें
वक्त के हमराह रहना है ,

ग़र हम वक्त के साथ चलने ना पाएंगे ,
वक्त हमें ठोकर मार गुज़र जाएगा,

हम इक ही मक़ाम पर बस ठहरे रह जाएंगे ,
ज़माना हमें वहीं छोड़ आगे निकल जाएगा।

177 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
बेवफाई की फितरत..
बेवफाई की फितरत..
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
तेरे जन्म दिवस पर सजनी
तेरे जन्म दिवस पर सजनी
Satish Srijan
देश से दौलत व शुहरत देश से हर शान है।
देश से दौलत व शुहरत देश से हर शान है।
सत्य कुमार प्रेमी
भटक ना जाना मेरे दोस्त
भटक ना जाना मेरे दोस्त
Mangilal 713
23/04.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/04.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*मूलांक*
*मूलांक*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नई नसल की फसल
नई नसल की फसल
विजय कुमार अग्रवाल
16, खुश रहना चाहिए
16, खुश रहना चाहिए
Dr .Shweta sood 'Madhu'
***वारिस हुई***
***वारिस हुई***
Dinesh Kumar Gangwar
मौत के बाज़ार में मारा गया मुझे।
मौत के बाज़ार में मारा गया मुझे।
Phool gufran
ख्याल........
ख्याल........
Naushaba Suriya
विनाश नहीं करती जिन्दगी की सकारात्मकता
विनाश नहीं करती जिन्दगी की सकारात्मकता
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रामचरितमानस दर्शन : एक पठनीय समीक्षात्मक पुस्तक
रामचरितमानस दर्शन : एक पठनीय समीक्षात्मक पुस्तक
Ravi Prakash
■ महसूस करें तो...
■ महसूस करें तो...
*प्रणय प्रभात*
लक्ष्य
लक्ष्य
लक्ष्मी सिंह
नारी जीवन
नारी जीवन
Aman Sinha
कुंडलिया
कुंडलिया
sushil sarna
सुन्दरता की कमी को अच्छा स्वभाव पूरा कर सकता है,
सुन्दरता की कमी को अच्छा स्वभाव पूरा कर सकता है,
शेखर सिंह
सत्यमेव जयते
सत्यमेव जयते
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
* मुक्तक *
* मुक्तक *
surenderpal vaidya
प्रकृति सुर और संगीत
प्रकृति सुर और संगीत
Ritu Asooja
नवीन और अनुभवी, एकजुट होकर,MPPSC की राह, मिलकर पार करते हैं।
नवीन और अनुभवी, एकजुट होकर,MPPSC की राह, मिलकर पार करते हैं।
पूर्वार्थ
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का रचना संसार।
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का रचना संसार।
Dr. Narendra Valmiki
--पागल खाना ?--
--पागल खाना ?--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
अब नरमी इतनी भी अच्छी नही फितरत में ।
अब नरमी इतनी भी अच्छी नही फितरत में ।
Ashwini sharma
तन्हाई में अपनी परछाई से भी डर लगता है,
तन्हाई में अपनी परछाई से भी डर लगता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
घर में यदि हम शेर बन के रहते हैं तो बीबी दुर्गा बनकर रहेगी औ
घर में यदि हम शेर बन के रहते हैं तो बीबी दुर्गा बनकर रहेगी औ
Ranjeet kumar patre
सपनों के सौदागर बने लोग देश का सौदा करते हैं
सपनों के सौदागर बने लोग देश का सौदा करते हैं
प्रेमदास वसु सुरेखा
तेवरी का सौन्दर्य-बोध +रमेशराज
तेवरी का सौन्दर्य-बोध +रमेशराज
कवि रमेशराज
सोचते हो ऐसा क्या तुम भी
सोचते हो ऐसा क्या तुम भी
gurudeenverma198
Loading...