Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Nov 2023 · 1 min read

बदलती दुनिया

हर शख्स हो रहा है
बईमान क्यूं यहां,
फितरत बदल रहा है
इंसान क्यूं यहां।
बच गए जो कुछ कही पर घर पुराने से,
बस ईटो के रह गए है वो मकान क्यूं यहां।
जा चुकी है आज रंगत इन रंगीन दीवारों की,
खंडहर बन चुके है
ये आलीशान क्यूं यहां।
घरौंदा रिश्तों का जो सजाया था किसी ने,
कैसे टूटने लगा है
सख्त समान क्यूं यहां।
ढूंढ रहे थे कल तक खुशियां पैसों में कही,
रह गए कितने अधूरे
अरमान क्यूं यहां।
बेच कर जमीर जिन्होंने अपना महल बनाया था,
बह गए बारिश में उसके
निशान क्यूं यहां।
@साहित्य गौरव

3 Likes · 2 Comments · 696 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मै पत्नी के प्रेम में रहता हूं
मै पत्नी के प्रेम में रहता हूं
भरत कुमार सोलंकी
थोड़ा नमक छिड़का
थोड़ा नमक छिड़का
Surinder blackpen
फागुन (मतगयंद सवैया छंद)
फागुन (मतगयंद सवैया छंद)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
जन्माष्टमी
जन्माष्टमी
लक्ष्मी सिंह
"सूत्र"
Dr. Kishan tandon kranti
श्रेष्ठ बंधन
श्रेष्ठ बंधन
Dr. Mulla Adam Ali
कान खोलकर सुन लो
कान खोलकर सुन लो
Shekhar Chandra Mitra
#तन्ज़िया_शेर...
#तन्ज़िया_शेर...
*Author प्रणय प्रभात*
*डॉ अरुण कुमार शास्त्री*
*डॉ अरुण कुमार शास्त्री*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
यदि समुद्र का पानी खारा न होता।
यदि समुद्र का पानी खारा न होता।
Rj Anand Prajapati
"चुभती सत्ता "
DrLakshman Jha Parimal
जब भी तेरा दिल में ख्याल आता है
जब भी तेरा दिल में ख्याल आता है
Ram Krishan Rastogi
बौद्ध धर्म - एक विस्तृत विवेचना
बौद्ध धर्म - एक विस्तृत विवेचना
Shyam Sundar Subramanian
वक़्त की एक हद
वक़्त की एक हद
Dr fauzia Naseem shad
"लाभ का लोभ”
पंकज कुमार कर्ण
साहित्य चेतना मंच की मुहीम घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि
साहित्य चेतना मंच की मुहीम घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि
Dr. Narendra Valmiki
नेता पक रहा है
नेता पक रहा है
Sanjay ' शून्य'
*न्याय-व्यवस्था : आठ दोहे*
*न्याय-व्यवस्था : आठ दोहे*
Ravi Prakash
माँ...की यादें...।
माँ...की यादें...।
Awadhesh Kumar Singh
माँ महान है
माँ महान है
Dr. Man Mohan Krishna
हर इंसान होशियार और समझदार है
हर इंसान होशियार और समझदार है
पूर्वार्थ
आपसे होगा नहीं , मुझसे छोड़ा नहीं जाएगा
आपसे होगा नहीं , मुझसे छोड़ा नहीं जाएगा
Keshav kishor Kumar
Don't Be Judgemental...!!
Don't Be Judgemental...!!
Ravi Betulwala
जीवन मार्ग आसान है...!!!!
जीवन मार्ग आसान है...!!!!
Jyoti Khari
बच्चे ही मां बाप की दुनियां होते हैं।
बच्चे ही मां बाप की दुनियां होते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
जमाना खराब हैं....
जमाना खराब हैं....
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
गुरुदेव आपका अभिनन्दन
गुरुदेव आपका अभिनन्दन
Pooja Singh
इतनी भी तकलीफ ना दो हमें ....
इतनी भी तकलीफ ना दो हमें ....
Umender kumar
आज़ाद पंछी
आज़ाद पंछी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नानी का गांव
नानी का गांव
साहित्य गौरव
Loading...