Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Apr 2023 · 1 min read

बदतमीज

डरता नही दुखता नही
निरनकुश हो गया है
इंसान इस जगत का
इंसानी चोले में शैतान हो गया है
हवस हुई है हावी
संस्कार खो गया है
लज्जा को लाज आयी
व्यभिचार बढ़ गया है
नग्नता का व्यापार
उन्मुक्त हुआ अनर्गल
कलयुगी जगत का
रूप अब अधिकतम
भिभत्स हो गया है
भिभत्स हो गया है
किसको सुनाऊं
जाकर ब्यथा इस
हृदय की हर शख्स
इस व्यथा का
शिकार हो गया है
बोये थे आम
निक्लेंगे नीम और करेले
कभी सोचा न था
धरती माँ का व्यवहार
अनोखा हो गया है
डरता नही दुखता नही
निरनकुश हो गया है
इंसान इस जगत का
इंसानी चोले में शैतान हो गया है

** एक अबोध बालक 😢अरुण अतृप्त

282 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
नारी के चरित्र पर
नारी के चरित्र पर
Dr fauzia Naseem shad
*** अरमान....!!! ***
*** अरमान....!!! ***
VEDANTA PATEL
सतशिक्षा रूपी धनवंतरी फल ग्रहण करने से
सतशिक्षा रूपी धनवंतरी फल ग्रहण करने से
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
सुनो मोहतरमा..!!
सुनो मोहतरमा..!!
Surya Barman
NSUI कोंडागांव जिला अध्यक्ष शुभम दुष्यंत राणा shubham dushyant rana
NSUI कोंडागांव जिला अध्यक्ष शुभम दुष्यंत राणा shubham dushyant rana
Bramhastra sahityapedia
वक़्त ने हीं दिखा दिए, वक़्त के वो सारे मिज़ाज।
वक़्त ने हीं दिखा दिए, वक़्त के वो सारे मिज़ाज।
Manisha Manjari
हर पति परमेश्वर नही होता
हर पति परमेश्वर नही होता
Kavita Chouhan
शहीद रामफल मंडल गाथा।
शहीद रामफल मंडल गाथा।
Acharya Rama Nand Mandal
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
मन को जो भी जीत सकेंगे
मन को जो भी जीत सकेंगे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मंजर जो भी देखा था कभी सपनों में हमने
मंजर जो भी देखा था कभी सपनों में हमने
कवि दीपक बवेजा
★बरसात की टपकती बूंद ★
★बरसात की टपकती बूंद ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
मोलभाव
मोलभाव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"सहेज सको तो"
Dr. Kishan tandon kranti
किसी की याद आना
किसी की याद आना
श्याम सिंह बिष्ट
[28/03, 17:02] Dr.Rambali Mishra: *पाप का घड़ा फूटता है (दोह
[28/03, 17:02] Dr.Rambali Mishra: *पाप का घड़ा फूटता है (दोह
Rambali Mishra
संघर्षों की एक कथाः लोककवि रामचरन गुप्त +इंजीनियर अशोक कुमार गुप्त [ पुत्र ]
संघर्षों की एक कथाः लोककवि रामचरन गुप्त +इंजीनियर अशोक कुमार गुप्त [ पुत्र ]
कवि रमेशराज
💐प्रेम कौतुक-94💐
💐प्रेम कौतुक-94💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दुसेरें को इज्जत देना हार मानव का कर्तंव्य है।  ...‌राठौड श्
दुसेरें को इज्जत देना हार मानव का कर्तंव्य है। ...‌राठौड श्
राठौड़ श्रावण लेखक, प्रध्यापक
जननी-अपना देश (कुंडलिया)
जननी-अपना देश (कुंडलिया)
Ravi Prakash
वो शिकायत भी मुझसे करता है
वो शिकायत भी मुझसे करता है
Shweta Soni
2863.*पूर्णिका*
2863.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गांव की बात निराली
गांव की बात निराली
जगदीश लववंशी
बात तब कि है जब हम छोटे हुआ करते थे, मेरी माँ और दादी ने आस
बात तब कि है जब हम छोटे हुआ करते थे, मेरी माँ और दादी ने आस
ruby kumari
Sukun-ye jung chal rhi hai,
Sukun-ye jung chal rhi hai,
Sakshi Tripathi
'बेटी की विदाई'
'बेटी की विदाई'
पंकज कुमार कर्ण
देवों के देव महादेव
देवों के देव महादेव
Neeraj Agarwal
भरत
भरत
Sanjay ' शून्य'
अधीर मन
अधीर मन
manisha
न दोस्ती है किसी से न आशनाई है
न दोस्ती है किसी से न आशनाई है
Shivkumar Bilagrami
Loading...