Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jul 2023 · 1 min read

बढ़ती हुई समझ,

बढ़ती हुई समझ,
जीवन को मौन की ओर
ले जाती है..!

176 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भारत माता
भारत माता
Seema gupta,Alwar
कर्मवीर भारत...
कर्मवीर भारत...
डॉ.सीमा अग्रवाल
" आज़ का आदमी "
Chunnu Lal Gupta
दुनिया मे नाम कमाने के लिए
दुनिया मे नाम कमाने के लिए
शेखर सिंह
मुक्तक
मुक्तक
महेश चन्द्र त्रिपाठी
रोला छंद :-
रोला छंद :-
sushil sarna
बाल कविता: चूहा
बाल कविता: चूहा
Rajesh Kumar Arjun
आओ न! बचपन की छुट्टी मनाएं
आओ न! बचपन की छुट्टी मनाएं
डॉ० रोहित कौशिक
दो जिस्म एक जान
दो जिस्म एक जान
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
चाहत
चाहत
Dr Archana Gupta
नजर  नहीं  आता  रास्ता
नजर नहीं आता रास्ता
Nanki Patre
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
23/30.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/30.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
💐अज्ञात के प्रति-147💐
💐अज्ञात के प्रति-147💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मुसाफिर हो तुम भी
मुसाफिर हो तुम भी
Satish Srijan
जाने इतनी बेहयाई तुममें कहां से आई है ,
जाने इतनी बेहयाई तुममें कहां से आई है ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
अमीर
अमीर
Punam Pande
तुम हारिये ना हिम्मत
तुम हारिये ना हिम्मत
gurudeenverma198
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अपात्रता और कार्तव्यहीनता ही मनुष्य को धार्मिक बनाती है।
अपात्रता और कार्तव्यहीनता ही मनुष्य को धार्मिक बनाती है।
Dr MusafiR BaithA
*देश का दर्द (मणिपुर से आहत)*
*देश का दर्द (मणिपुर से आहत)*
Dushyant Kumar
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
देखना हमको फिर नहीं भाता
देखना हमको फिर नहीं भाता
Dr fauzia Naseem shad
जंगल में सर्दी
जंगल में सर्दी
Kanchan Khanna
*🔱नित्य हूँ निरन्तर हूँ...*
*🔱नित्य हूँ निरन्तर हूँ...*
Dr Manju Saini
बौराये-से फूल /
बौराये-से फूल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*फिर से राम अयोध्या आए, रामराज्य को लाने को (गीत)*
*फिर से राम अयोध्या आए, रामराज्य को लाने को (गीत)*
Ravi Prakash
"गुजारिश"
Dr. Kishan tandon kranti
आदम का आदमी
आदम का आदमी
आनन्द मिश्र
सत्ता की हवस वाले राजनीतिक दलों को हराकर मुद्दों पर समाज को जिताना होगा
सत्ता की हवस वाले राजनीतिक दलों को हराकर मुद्दों पर समाज को जिताना होगा
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
Loading...