Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Apr 2023 · 1 min read

बड़े मिनरल वाटर पी निहाल : उमेश शुक्ल के हाइकु

गर्मी तीखी जीव जंतु बेहाल
बिजली, पानी संकट हर जी का जंजाल
बड़े मिनरल वाटर पी निहाल

अंधी कमाई को अनुचित चाल
बस, रेलवे स्टेशन टोटियों से हुए कंगाल
पानी बेच कमाते अनेक माल

यूपी रोडवेज का अनूठा इंतजाम
चालक कंडक्टर बस रोक करें मुफ्त जलपान
सवारियों पर महंगाई की कृपाण

माननीयों को सब दिखता भला
जनता का कदम कदम चलना मुश्किल कला
सब चाहें नारायण टालें बला

Language: Hindi
164 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन सूत्र (#नेपाली_लघुकथा)
जीवन सूत्र (#नेपाली_लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
बाल कविता: मछली
बाल कविता: मछली
Rajesh Kumar Arjun
Chalo khud se ye wada karte hai,
Chalo khud se ye wada karte hai,
Sakshi Tripathi
सफर है! रात आएगी
सफर है! रात आएगी
Saransh Singh 'Priyam'
जिंदगी में मस्त रहना होगा
जिंदगी में मस्त रहना होगा
Neeraj Agarwal
सुप्रभात
सुप्रभात
Seema Verma
दोहा त्रयी. . .
दोहा त्रयी. . .
sushil sarna
हमारे प्यार का आलम,
हमारे प्यार का आलम,
Satish Srijan
दिव्य-दोहे
दिव्य-दोहे
Ramswaroop Dinkar
जीवन
जीवन
Monika Verma
"चंदा मामा"
Dr. Kishan tandon kranti
23/66.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/66.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कुछ उत्तम विचार.............
कुछ उत्तम विचार.............
विमला महरिया मौज
शिव ही बनाते हैं मधुमय जीवन
शिव ही बनाते हैं मधुमय जीवन
कवि रमेशराज
साहित्य क्षेत्रे तेल मालिश का चलन / MUSAFIR BAITHA
साहित्य क्षेत्रे तेल मालिश का चलन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
■ अपना दर्द, दवा भी अपनी।।
■ अपना दर्द, दवा भी अपनी।।
*Author प्रणय प्रभात*
चंचल मन
चंचल मन
Dinesh Kumar Gangwar
मनोरम तेरा रूप एवं अन्य मुक्तक
मनोरम तेरा रूप एवं अन्य मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Temple of Raam
Temple of Raam
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
विजय हजारे
विजय हजारे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
माना जीवन लघु बहुत,
माना जीवन लघु बहुत,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आंखों से अश्क बह चले
आंखों से अश्क बह चले
Shivkumar Bilagrami
जय श्रीराम
जय श्रीराम
Indu Singh
एक जिद्दी जुनूनी और स्वाभिमानी पुरुष को कभी ईनाम और सम्मान क
एक जिद्दी जुनूनी और स्वाभिमानी पुरुष को कभी ईनाम और सम्मान क
Rj Anand Prajapati
भ्रातृ चालीसा....रक्षा बंधन के पावन पर्व पर
भ्रातृ चालीसा....रक्षा बंधन के पावन पर्व पर
डॉ.सीमा अग्रवाल
💐प्रेम कौतुक-465💐
💐प्रेम कौतुक-465💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*मजा हार में आता (बाल कविता)*
*मजा हार में आता (बाल कविता)*
Ravi Prakash
छिपकली बन रात को जो, मस्त कीड़े खा रहे हैं ।
छिपकली बन रात को जो, मस्त कीड़े खा रहे हैं ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
शिष्टाचार
शिष्टाचार
लक्ष्मी सिंह
आदित्य यान L1
आदित्य यान L1
कार्तिक नितिन शर्मा
Loading...