Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Nov 2023 · 1 min read

बड़ा ही सुकूँ देगा तुम्हें

बड़ा ही सुकूँ देगा तुम्हें
जब तुम खुद के साथ बैठेगो
पल दो पल…..
तब तुम खुद की सुनोगे
खुद को सुनाओगे
Ruby

1 Like · 194 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिंदगी को रोशन करने के लिए
जिंदगी को रोशन करने के लिए
Ragini Kumari
"चुलबुला रोमित"
Dr Meenu Poonia
कान्हा
कान्हा
Mamta Rani
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
कोरोना महामारी
कोरोना महामारी
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
छोड़कर जाने वाले क्या जाने,
छोड़कर जाने वाले क्या जाने,
शेखर सिंह
वो बचपन का गुजरा जमाना भी क्या जमाना था,
वो बचपन का गुजरा जमाना भी क्या जमाना था,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*घूॅंघट में द्विगुणित हुआ, नारी का मधु रूप (कुंडलिया)*
*घूॅंघट में द्विगुणित हुआ, नारी का मधु रूप (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
#मनमौजी_की_डायरी
#मनमौजी_की_डायरी
*प्रणय प्रभात*
फेसबुक ग्रूपों से कुछ मन उचट गया है परिमल
फेसबुक ग्रूपों से कुछ मन उचट गया है परिमल
DrLakshman Jha Parimal
शायरी 1
शायरी 1
SURYA PRAKASH SHARMA
परामर्श शुल्क –व्यंग रचना
परामर्श शुल्क –व्यंग रचना
Dr Mukesh 'Aseemit'
भ्रातृ चालीसा....रक्षा बंधन के पावन पर्व पर
भ्रातृ चालीसा....रक्षा बंधन के पावन पर्व पर
डॉ.सीमा अग्रवाल
फिर जनता की आवाज बना
फिर जनता की आवाज बना
vishnushankartripathi7
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"ऐसा है अपना रिश्ता "
Yogendra Chaturwedi
सहित्य में हमे गहरी रुचि है।
सहित्य में हमे गहरी रुचि है।
Ekta chitrangini
2323.पूर्णिका
2323.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*The Bus Stop*
*The Bus Stop*
Poonam Matia
दो साँसों के तीर पर,
दो साँसों के तीर पर,
sushil sarna
एहसास
एहसास
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जब एक शख्स लगभग पैंतालीस वर्ष के थे तब उनकी पत्नी का स्वर्गव
जब एक शख्स लगभग पैंतालीस वर्ष के थे तब उनकी पत्नी का स्वर्गव
Rituraj shivem verma
"हँसी"
Dr. Kishan tandon kranti
कुछ इस तरह टुटे है लोगो के नजरअंदाजगी से
कुछ इस तरह टुटे है लोगो के नजरअंदाजगी से
पूर्वार्थ
बेदर्द ...................................
बेदर्द ...................................
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
जिसे सुनके सभी झूमें लबों से गुनगुनाएँ भी
जिसे सुनके सभी झूमें लबों से गुनगुनाएँ भी
आर.एस. 'प्रीतम'
गौतम बुद्ध के विचार
गौतम बुद्ध के विचार
Seema Garg
आबूधाबी में हिंदू मंदिर
आबूधाबी में हिंदू मंदिर
Ghanshyam Poddar
हम दुनिया के सभी मच्छरों को तो नहीं मार सकते है तो क्यों न ह
हम दुनिया के सभी मच्छरों को तो नहीं मार सकते है तो क्यों न ह
Rj Anand Prajapati
बलिदानी सिपाही
बलिदानी सिपाही
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...