Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Nov 2016 · 1 min read

बचपन

मैं अक्सर सोचती हूं
रात के गहरे अंधेरो में
न जाने क्यूं वो बीते पल
अभी भी मुझमें ज़िंदा हैं
मुझे अक्सर ही लगता है
शहर शमशान हो जैसे
ये रातें सो रहीं हैं और
बचपन जागता क्यूं है।

Language: Hindi
2 Likes · 276 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अनघड़ व्यंग
अनघड़ व्यंग
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तबीयत मचल गई
तबीयत मचल गई
Surinder blackpen
मां स्कंदमाता
मां स्कंदमाता
Mukesh Kumar Sonkar
2927.*पूर्णिका*
2927.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
🇮🇳🇮🇳*
🇮🇳🇮🇳*"तिरंगा झंडा"* 🇮🇳🇮🇳
Shashi kala vyas
इतने बीमार
इतने बीमार
Dr fauzia Naseem shad
"कूँचे गरीब के"
Ekta chitrangini
बुरा समय था
बुरा समय था
Swami Ganganiya
युद्ध
युद्ध
Dr.Priya Soni Khare
जानते वो भी हैं...!!!
जानते वो भी हैं...!!!
Kanchan Khanna
सत्य शुरू से अंत तक
सत्य शुरू से अंत तक
विजय कुमार अग्रवाल
माँ तुझे प्रणाम
माँ तुझे प्रणाम
Sumit Ki Kalam Se Ek Marwari Banda
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
Rj Anand Prajapati
मतलबी इंसान हैं
मतलबी इंसान हैं
विक्रम कुमार
सावधानी हटी दुर्घटना घटी
सावधानी हटी दुर्घटना घटी
Sanjay ' शून्य'
इंसान कहीं का भी नहीं रहता, गर दिल बंजर हो जाए।
इंसान कहीं का भी नहीं रहता, गर दिल बंजर हो जाए।
Monika Verma
गुलाम
गुलाम
Punam Pande
कितना सुकून और कितनी राहत, देता माँ का आँचल।
कितना सुकून और कितनी राहत, देता माँ का आँचल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
समय की गांठें
समय की गांठें
Shekhar Chandra Mitra
*****खुद का परिचय *****
*****खुद का परिचय *****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
💐अज्ञात के प्रति-21💐
💐अज्ञात के प्रति-21💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सत्य
सत्य
Dinesh Kumar Gangwar
*आई काम न संपदा, व्यर्थ बंगला कार【कुंडलिया】*
*आई काम न संपदा, व्यर्थ बंगला कार【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
नेमत, इबादत, मोहब्बत बेशुमार दे चुके हैं
नेमत, इबादत, मोहब्बत बेशुमार दे चुके हैं
हरवंश हृदय
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
सागर
सागर
नूरफातिमा खातून नूरी
जीवात्मा
जीवात्मा
Mahendra singh kiroula
मंजिल कठिन ॲंधेरा, दीपक जलाए रखना।
मंजिल कठिन ॲंधेरा, दीपक जलाए रखना।
सत्य कुमार प्रेमी
सामाजिक बहिष्कार हो
सामाजिक बहिष्कार हो
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
हम भी जिंदगी भर उम्मीदों के साए में चलें,
हम भी जिंदगी भर उम्मीदों के साए में चलें,
manjula chauhan
Loading...