Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jun 2023 · 1 min read

बचपन का प्रेम

प्यार किया इजहार ना किया,
देखा पर दीदार ना किया।
आज मगर जब कहना चाहा,
सुनैना तक स्वीकार ना किया॥

~~~~~~~ १ ~~~~~~~
मुझे याद है पहले तुम भी,
प्यार हमेशा करते थे।
तरह-तरह की खोज बहाने,
हमसे बातें करते थे॥
पता नहीं क्यों भूल गए तुम,
बचपन का वह निश्छल प्रेम।
जाने क्यों अनजान बने हैं,
अपना सा व्यवहार न किया॥
आज मगर जब ••••••••॥१॥

~~~~~~~ २ ~~~~~~~
माना गलती मेरी ही थी,
खुद को तुम्हारे योग्य माना।
चाहत दिल में छुपा रखी थी,
पर चाहत का मोल न जाना॥
मैं भी नजर बचाकर तुमको,
छुपकर देखा करता था।
पर जब तुम नजदीक थे आते,
किस्मत पर ऐतबार न किया॥
आज मगर जब ••••••••॥२॥

~~~~~~~ ३ ~~~~~~~
वैसे तो तब बचपन ही था,
पर चाहत में सच्चाई थी।
मैं तुमको खुश रख पाऊंगा,
यह शंका मन में छाई थी॥
इसलिए कलेजे पर पत्थर रख,
अपनाई जुदाई थी।
‘अंकुर’ अब जीवन न कटेगा,
जो तुमने गुलजार न किया॥
आज मगर जब •••••••••॥३॥

-✍️ निरंजन कुमार तिलक ‘अंकुर’
छतरपुर मध्यप्रदेश 9752606136

Language: Hindi
318 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रूह मर गई, मगर ख्वाब है जिंदा
रूह मर गई, मगर ख्वाब है जिंदा
कवि दीपक बवेजा
एक generation अपने वक्त और हालात के अनुभव
एक generation अपने वक्त और हालात के अनुभव
पूर्वार्थ
कौड़ी कौड़ी माया जोड़े, रटले राम का नाम।
कौड़ी कौड़ी माया जोड़े, रटले राम का नाम।
Anil chobisa
बहता पानी
बहता पानी
साहिल
चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी कई मायनों में खास होती है।
चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी कई मायनों में खास होती है।
Shashi kala vyas
है जरूरी हो रहे
है जरूरी हो रहे
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
विरह
विरह
नवीन जोशी 'नवल'
The stars are waiting for this adorable day.
The stars are waiting for this adorable day.
Sakshi Tripathi
निजी विद्यालयों का हाल
निजी विद्यालयों का हाल
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
गुज़रा हुआ वक्त
गुज़रा हुआ वक्त
Surinder blackpen
तेरी हुसन ए कशिश  हमें जीने नहीं देती ,
तेरी हुसन ए कशिश हमें जीने नहीं देती ,
Umender kumar
मियाद
मियाद
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
आपको हम
आपको हम
Dr fauzia Naseem shad
भारत
भारत
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
मजे की बात है
मजे की बात है
Rohit yadav
बहुत से लोग आएंगे तेरी महफ़िल में पर
बहुत से लोग आएंगे तेरी महफ़िल में पर "कश्यप"।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
खुद को संवार लूँ.... के खुद को अच्छा लगूँ
खुद को संवार लूँ.... के खुद को अच्छा लगूँ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
चिल्हर
चिल्हर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कैसी
कैसी
manjula chauhan
अपने बच्चों का नाम लिखावो स्कूल में
अपने बच्चों का नाम लिखावो स्कूल में
gurudeenverma198
प्रेम में राग हो तो
प्रेम में राग हो तो
हिमांशु Kulshrestha
भारत के बच्चे
भारत के बच्चे
Rajesh Tiwari
3115.*पूर्णिका*
3115.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*कहो हम शस्त्र लेकर वंचितों के साथ आए हैं (मुक्तक)*
*कहो हम शस्त्र लेकर वंचितों के साथ आए हैं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
भूख
भूख
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
माँ...की यादें...।
माँ...की यादें...।
Awadhesh Kumar Singh
जब मरहम हीं ज़ख्मों की सजा दे जाए, मुस्कराहट आंसुओं की सदा दे जाए।
जब मरहम हीं ज़ख्मों की सजा दे जाए, मुस्कराहट आंसुओं की सदा दे जाए।
Manisha Manjari
आजादी..
आजादी..
Harminder Kaur
दोहा -स्वागत
दोहा -स्वागत
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
विषय सूची
विषय सूची
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
Loading...