Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Dec 2023 · 1 min read

बचपन याद किसे ना आती💐🙏

बचपन याद किसे ना आती
मस्ती भरा बचपन कहानी
दो बार आता ये जीवन में
जन्म माता आँचल की छांह
यौवन चीर ज़रा हाथ सबल
परिवार छड़ी लिए इक सहारा
चलते वक़्त याद रखना कभी
अलविदा ना कहना पर विदाई
ले खाली हाथ गले धरा धरणी
गोद चिर निंद्रा से सकून पाना
सत्य अर्थ ये जीव जीवन का
टी.पी. तरुण

195 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
View all
You may also like:
अधर्म का उत्पात
अधर्म का उत्पात
Dr. Harvinder Singh Bakshi
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
होली की आयी बहार।
होली की आयी बहार।
Anil Mishra Prahari
आँशुओ ने कहा अब इस तरह बहा जाय
आँशुओ ने कहा अब इस तरह बहा जाय
Rituraj shivem verma
Tum meri kalam ka lekh nahi ,
Tum meri kalam ka lekh nahi ,
Sakshi Tripathi
कैसे यकीन करेगा कोई,
कैसे यकीन करेगा कोई,
Dr. Man Mohan Krishna
. inRaaton Ko Bhi Gajab Ka Pyar Ho Gaya Hai Mujhse
. inRaaton Ko Bhi Gajab Ka Pyar Ho Gaya Hai Mujhse
Ankita Patel
💐प्रेम कौतुक-221💐
💐प्रेम कौतुक-221💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
2831. *पूर्णिका*
2831. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शब्द -शब्द था बोलता,
शब्द -शब्द था बोलता,
sushil sarna
खुद को मसखरा बनाया जिसने,
खुद को मसखरा बनाया जिसने,
Satish Srijan
इन्द्रिय जनित ज्ञान सब नश्वर, माया जनित सदा छलता है ।
इन्द्रिय जनित ज्ञान सब नश्वर, माया जनित सदा छलता है ।
लक्ष्मी सिंह
बसंत
बसंत
Bodhisatva kastooriya
सीने में जलन
सीने में जलन
Surinder blackpen
■ बस दो सवाल...
■ बस दो सवाल...
*Author प्रणय प्रभात*
चाय पार्टी
चाय पार्टी
Mukesh Kumar Sonkar
मैं भी तुम्हारी परवाह, अब क्यों करुँ
मैं भी तुम्हारी परवाह, अब क्यों करुँ
gurudeenverma198
मतलब भरी दुनियां में जरा संभल कर रहिए,
मतलब भरी दुनियां में जरा संभल कर रहिए,
शेखर सिंह
दंग रह गया मैं उनके हाव भाव देख कर
दंग रह गया मैं उनके हाव भाव देख कर
Amit Pathak
अपनी सूरत
अपनी सूरत
Dr fauzia Naseem shad
चलो कल चाय पर मुलाक़ात कर लेंगे,
चलो कल चाय पर मुलाक़ात कर लेंगे,
गुप्तरत्न
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
एक वो है मासूमियत देख उलझा रही हैं खुद को…
एक वो है मासूमियत देख उलझा रही हैं खुद को…
Anand Kumar
!! कोई आप सा !!
!! कोई आप सा !!
Chunnu Lal Gupta
ओ! मेरी प्रेयसी
ओ! मेरी प्रेयसी
SATPAL CHAUHAN
आधुनिक युग और नशा
आधुनिक युग और नशा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नीलम शर्मा ✍️
नीलम शर्मा ✍️
Neelam Sharma
सूरज
सूरज
PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
Hey....!!
Hey....!!
पूर्वार्थ
ये वक्त कुछ ठहर सा गया
ये वक्त कुछ ठहर सा गया
Ray's Gupta
Loading...