Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Mar 2020 · 1 min read

बंशी बजाये मोहना

हरिगीतिका छंद

बंशी बजाये मोहना नव रस सुरीली गीत रे।
है बाँसुरी जादू भरी फैली जगत में प्रीत रे।

सुन बावली होने लगी कितना मधुर संगीत रे।
रसराज रसिया की हुई है आज देखो जीत रे।

बेला शरद की माधुरी बरसा अमृत बन शीत रे।
ये रात पूनम की सुहानी संग है मनमीत रे।

बंशी मधुर धुन में सुनाती प्रेम की सब रीत रे।
जब कर्ण में घुलने लगी हरने लगी मन पीत रे।
-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

6 Likes · 1 Comment · 397 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
बसंत
बसंत
manjula chauhan
हे मनुज श्रेष्ठ
हे मनुज श्रेष्ठ
Dr.Pratibha Prakash
छलते हैं क्यों आजकल,
छलते हैं क्यों आजकल,
sushil sarna
विश्व पुस्तक दिवस पर विशेष
विश्व पुस्तक दिवस पर विशेष
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
क्या रखा है? वार में,
क्या रखा है? वार में,
Dushyant Kumar
आसमां में चांद अकेला है सितारों के बीच
आसमां में चांद अकेला है सितारों के बीच
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
#सामयिक_रचना
#सामयिक_रचना
*Author प्रणय प्रभात*
रहती कब रजनी सदा, आता निश्चित भोर(कुंडलिया)*
रहती कब रजनी सदा, आता निश्चित भोर(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कलियुग
कलियुग
Bodhisatva kastooriya
डाल-डाल पर फल निकलेगा
डाल-डाल पर फल निकलेगा
Anil Mishra Prahari
धैर्य.....….....सब्र
धैर्य.....….....सब्र
Neeraj Agarwal
World stroke day
World stroke day
Tushar Jagawat
सुनहरे सपने
सुनहरे सपने
Shekhar Chandra Mitra
मुट्ठी भर आस
मुट्ठी भर आस
Kavita Chouhan
कहाँ छूते है कभी आसमाँ को अपने हाथ
कहाँ छूते है कभी आसमाँ को अपने हाथ
'अशांत' शेखर
अपनी इबादत पर गुरूर मत करना.......
अपनी इबादत पर गुरूर मत करना.......
shabina. Naaz
जिंदगी के वास्ते
जिंदगी के वास्ते
Surinder blackpen
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
पागल
पागल
Sushil chauhan
Three handfuls of rice
Three handfuls of rice
कार्तिक नितिन शर्मा
💐अज्ञात के प्रति-152💐
💐अज्ञात के प्रति-152💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दो अक्षर में कैसे बतला दूँ
दो अक्षर में कैसे बतला दूँ
Harminder Kaur
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
चन्द ख्वाब
चन्द ख्वाब
Kshma Urmila
"बोलती आँखें"
पंकज कुमार कर्ण
3074.*पूर्णिका*
3074.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रमेशराज के 12 प्रेमगीत
रमेशराज के 12 प्रेमगीत
कवि रमेशराज
"गीत"
Dr. Kishan tandon kranti
जो ज़िम्मेदारियों से बंधे होते हैं
जो ज़िम्मेदारियों से बंधे होते हैं
Paras Nath Jha
Loading...